अश्वनी शर्मा ने अमरिंदर सिंह को आड़े हाथों लिया, कहा- किसानों को कर रहे गुमराह

पंजाब प्रदेश भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) अध्यक्ष अश्वनी शर्मा ने राज्य के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को आड़े हाथों लेते हुए

चंडीगढ़ : पंजाब प्रदेश भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) अध्यक्ष अश्वनी शर्मा ने राज्य के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को आड़े हाथों लेते हुए उन पर किसानों को गुमराह करने और केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के विरोध में किसानों को आंदोलन करने के लिए उकसाने का आरोप लगाया। शर्मा ने आज यहां जारी एक वक्तव्य में कहा कि कैप्टन सिंह अपने राजनीतिक लाभ और स्वार्थ के चलते राज्य के किसानों को गुमराह कर रहे हैं। मुख्यमंत्री किसानों को कृषि कानूनों के बारे में गलत जानकारी दे रहे हैं और इस सब के लिए उन्हें पंजाब-हरियाणा उच्च न्यायालय ने गत सप्ताह फटकार भी लगाई गई थी।

उन्होंने मुख्यमंत्री द्वारा भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा को लिखे पत्र पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कैप्टन सिंह प्रदेश में कानून-व्यवस्था बनाए रखने में बुरी तरह विफल रहे हैं जिसके चलते मालगाड़ियाँ और यात्री रेलगाड़ियां पंजाब में नहीं आ रही हैं। एक तरफ, कैप्टन किसानों को आंदोलन तेज करने के लिए उकसा रहे हैं और दूसरी तरफ राज्य में रेलगाड़ियों की आवाजाही की अनुमति नहीं दिए जाने के लिए केंद्र को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। यह उनके पाखंड और ओच्छे राजनीतिक खेल को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि किसान के आंदोलन तथा मालगाड़ियाें और यात्री रेलगाड़ियों के नहीं चलने से राज्य को हो रहे नुकसान के लिये कैप्टन स्वयं जिम्मेदार हैं।

पंजाब में 27 स्थानों पर रेलवे प्लेटफॉर्म अवरुद्ध पड़े

शर्मा ने कहा कि रेल मंत्री पीयूष गोयल ने यह स्पष्ट कर दिया है कि यदि कैप्टन यदि पंजाब में रेल लाइनों पर जारी किसानों के धरने नहीं हटाये गये तो किसी भी सूरत में मालगाड़ियां पंजाब नहीं जाएंगी। शर्मा ने कैप्टन से सवाल किया कि पंजाब में 27 स्थानों पर रेलवे प्लेटफॉर्म अवरुद्ध पड़े हैं। इसके लिए कौन जिम्मेदार है ? क्या केंद्र इसके लिए जिम्मेदार है या पंजाब का मुख्यमंत्री?

उन्होंने कहा कि पंजाब-हरियाणा उच्च न्यायालय ने रेलवे की रुकावटों को दूर करने में विफल रहने के लिए कैप्टन सिंह और उनकी सरकार को पहले ही फटकार लगाई है लेकिन कैप्टन अपनी विफलता का दोष केंद्र पर मढ़ कर अपने फर्ज से भाग रहे हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा ने कभी भी किसानों की नक्सलियों से तुलना नहीं की। किसान देश की जीवन रेखा हैं और केंद्र सरकार द्वारा बनाये गये कृषि कानून किसानों को सशक्त बनाने के लिए हैं ताकि उनकी आय दुगुनी हो सके। उन्होंने दावा किया कि किसानों की आड़ में नक्सल तत्व राज्य में कानून-व्यवस्था की समस्या पैदा कर रहे हैं तथा इन्हें मुख्यमंत्री का समर्थन हासिल है।

ये भी पढ़े : सिंधिया के खिलाफ हमने अपशब्द नहीं कहे, वह असत्य बोले रहे हैं: कमलनाथ

मुख्यमंत्री अपनी सस्ते राजनीतिक लाभ पर नजर गड़ाए हुए

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा किसानों को सही परिप्रेक्ष्य में शिक्षित करने और कानून-व्यवस्था की स्थिति को नियंत्रण में रखने के लिए मुख्यमंत्री से सहयोग की अपील कर रही है। लेकिन मुख्यमंत्री अपनी सस्ते राजनीतिक लाभ पर नजर गड़ाए हुए हैं और किसानों में भ्रामक प्रचार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्रीय सुरक्षा कारणों को मुख्यमंत्री से बेहतर समझते हैं लेकिन कैप्टन अपने संवैधानिक कर्तव्यों की जिम्मेदारी निभाने से भाग रहे हैं।

ये भी पढ़े : ललितपुर: कागजातों में हेराफेरी के आरोप में वीडीओ सहित चार के खिलाफ़ मामला दर्ज

कांग्रेस समर्थित गुंडे उनके साथ

राज्य की कानून व्यवस्था को खतरे को लेकर शर्मा ने कहा कि यह कांग्रेस कार्यकर्ताओं के कारण खतरे में हैं। कांग्रेस समर्थित गुंडे उनके साथ, भाजपा कार्यकर्ताओं और भाजपा कार्यालयों पर हमले की अनेक घटनाओं को अंज़ाम दे चुके हैं। लेकिन आज तक किसी भी मामले में राज्य पुलिस ने कोई गिरफ्तारी नहीं की है।

Related Articles

Back to top button