IPL
IPL

Assam Election 2021: ‘बोडो और नॉन बोडो के बीच झगड़ा लगाना, राहुल बाबा की पहचान’

असम के कामरूप में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बोला कि ट्राइब और नॉन ट्राइब के बीच झगड़ा लगाना राहुल बाबा की पार्टी की पहचान है

कामरूप: असम विधानसभा चुनाव (Assam Assembly Election)  में जीत के लिए BJP ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। जिसके लिए असम के कामरूप में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने जनसभा को संबोधित किया है। असम विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी 92 सीटों पर चुनाव लड़ेगी।

राहुल बाबा की पार्टी

असम (Assam) के कामरूप में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने जनसभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर निशाना साधा है। अमित शाह ने कहा कि, अंदर ही अंदर लड़ाई लगाना उनका काम है। असम और बंगाल के लोगों के बीच झगड़ा लगाना, अपर और लोअर असम के बीच झगड़ा लगाना, बोडो और नॉन बोडो के बीच झगड़ा लगाना, ट्राइब और नॉन ट्राइब के बीच झगड़ा लगाना राहुल बाबा की पार्टी की पहचान है।

असम के अंदर आतंकवाद

अमित शाह ने यह भी बोला कि सालों से असम के अंदर आतंकवाद होता था, गोलियां चलती थी। युवा और पुलिसकर्मी मारे जाते थे। लेकिन कांग्रेस कुछ नहीं करती थी। उनको सब को लड़ाने में आनंद आता है। आपने पूर्ण बहुमत की भाजपा सरकार बनाई, 5 साल में हमने असम को आतंकवाद से मुक्त कर दिया। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि आजकल राहुल बाबा यहां पर्यटन पर निकले हैं, उन्होंने कहा कि असम की पहचान बदरुद्दीन अजमल है। राहुल बाबा आप असम को घुसपैठियों का अड्डा बनाना चाहते हो तो कान खोल कर सुन लो, हम असम में घुसपैठ नहीं होने देंगे।

राहुल गांधी का BJP पर हमला

असम के कामरूप में कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने BJP पर पलटवार करते हुए कहा कि बीजेपी रोजगार देने की कोशिश नहीं करती, युवाओं की मदद करने की कोशिश नहीं करती, उल्टा असम पर आक्रमण करती है। सीएए असम पर आक्रमण है, ये सिर्फ एक कानून नहीं है ये आपके इतिहास, भाषा और भाईचारे पर आक्रमण है और इसलिए हम इसे रोक रहे हैं।

दूसरे चरण का मतदान

असम (Assam) में विधानसभा चुनाव 3 चरणों में हो रहे हैं जिसके पहले चरण का मतदान- 27 मार्च को हो चुका है। दूसरे चरण का मतदान- 1 अप्रैल को होने वाला है। असम में तीसरे चरण का मतदान -6 अप्रैल को होगा और चुनाव की मतगणना (Counting of votes) 2 मई को होगी।

यह भी पढ़ेभाभियों ने देवरों के फाड़े कपड़े, भक्तों ने खेली ‘कपड़ा फाड़’ होली (Holi), प्रसाद में बंटे भांग

Related Articles

Back to top button