असम: अगर एनआरसी में नहीं मिली नागरिकता, तो ऐसे करें दावा

नई दिल्ली: असम में नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स (NRC) का फाइनल ड्राफ्ट सोमवार को जारी कर दिया गया। इसमें कुल 3,29,91,384 आवेदकों में 2,89,83,677 लोगों को भारतीय नागरिक माना गया है, जबकि 40 लाख से ज्‍यादा लोगों के नाम को अभी इस लिस्ट में नहीं शामिल किया गया है। लेकिन जिनका नाम इसमें नहीं है वह अपना दावा पेश कर सकते हैं। उसके लिए एक अलग प्रक्रिया का पालन किया जाएगा।

रजिस्ट्रार जनरल ऑफ इंडिया ने कहा है कि जिन लोगों के नाम इस लिस्ट में नहीं हैं, उनके नाम पर अभी विचार जारी है। इसके अलावा यदि लिस्‍ट में किसी अयोग्‍य व्‍यक्ति का नाम नागरिक के तौर पर शामिल कर लिया गया है तो उसके खिलाफ भी आपत्ति जताई जा सकती है। आवेदकों के नाम, उम्र, पता में कोई खड़बड़ी होने पर भी पुन: बदलाव किया जा सकता है। सभी दावों के निस्‍तारण के बाद ही अंतिम NRC जारी किया जाएगा।

एनआरसी में नाम शामिल करावाने को ऐसे करें दावा

एनआरी में अपना नाम शामिल करवाने के दावों, आपत्तियों और सुधार के लिए अलग-अलग फॉर्म होंगे। यहां एक शर्त भी लागू होती है, कि जिन आवेदकों ने 31 अगस्‍त, 2015 तक एनआरसी आवेदन किए होंगे, वही दावा कर सकेंगे। हालांकि आपत्तियां कोई भी कर सकता है। दावे सिर्फ उसी NRC सेवा केंद्र पर दाखिल किए जाएंगे, जहां आवेदक ने आवेदन किया था। अगर आवेदक का पता बदल गया तो भी उन्‍हें उसी सेवा केंद्र से आवेदन करना होगा जहां पहले किया था।

ऐसे कर सकेंगे एनआरसी में आपत्ति

वहीं एनआरसी में आपत्तियां केवल उसी सेवा केंद्र में दायर की जा सकेंगी, जिसके क्षेत्र में उस व्‍यक्ति का निवास है और जिसके खिलाफ आपत्ति दायर की गई है। दावा और आपत्ति को एनआरसी सेवा केंद्र पर दाखिल करना होगा।

ये है एनआरसी में सुधार कराने की अंतिम तारीख

दावे, आपत्तियां और सुधार के आवेदन 30 अगस्‍त, 2018 से 28 सितंबर 2018 तक निर्धारित प्रारूप में ही लिए जाएंगे। एनआरसी के दावों के विभिन्न प्रारुप के फार्म सेवा केंद्र पर उपलब्ध रहेंगे। इसके साथ ही इन प्रारुप को 7 अगस्‍त से www.nrcassam.nic.in पर डाउनलोड भी करने की सुविधा मिलेगी।

Related Articles