सहायक अध्यापक भर्तीः उत्तर पुस्तिकाओं की स्क्रूटनी शुरू, दोषियों की खैर नहीं

0

लखनऊः 68500 सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा में गड़बड़ियों के बारे में जानकारी होते ही उत्तर पुस्तिकाओं की स्क्रूटनी शुरू हो गई है। बेसिक शिक्षा विभाग एक सप्ताह में सभी कॉपियों की जांच करके अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र देने का फैसला किया है।

बता दें इस भर्ती की लिखित परीक्षा का परिणाम जारी होने के बाद कॉपियों की जांच में गड़बड़ियों का पता चला था। उत्तर पुस्तिका बदले जाने और परीक्षा नहीं देने के बावजूद अभ्यर्थियों को नियुक्ति देने के मामले भी उजागर हुए थे। अभ्यर्थियों जब इस पर असंतोष जताया तो बेसिक शिक्षा विभाग ने परीक्षा में शामिल सभी 107873 अभ्यर्थियों की उत्तर पुस्तिकाओं की दोबारा जांचने का निर्णय लिया है।

विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रभात कुमार ने कहा कि स्क्रूटनी का काम लगभग हफ्ते भर में पूरा कर लिया जाएगा। जांच में अंक बढ़ने से जो अभ्यर्थी सहायक अध्यापक भर्ती के लिए निर्धारित कटऑफ के दायरे में आएंगे उन्हें नियुक्ति दी जाएगी।

उन्होंने बताया कि जांच में दोषी पाए गए कर्मचारियों और अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई जाएगी और विभागीय कार्रवाई भी होगी। उन्होंने बताया कि विभाग कॉपियों की जांच करने वाली कंपनी के खिलाफ भी जांच होगी। इस बात की भी शंका है कि कंपनी के स्तर पर भी कॉपियों में गड़बड़ी हो सकती है। इस बात का स्पष्टिकरण होने के बाद ही इस पर कोई कार्रवाई होगी। उन्होंने कहा कि अब तक की जांच में गड़बड़ियों के पीछे किसी गिरोह का हाथ होने की बात सामने नहीं आई है।

शिक्षक भर्ती परीक्षा में अनियमितता की जांच के लिए गन्ना विकास विभाग के प्रमुख सचिव संजय आर भूसरेड्डी की अध्यक्षता में गठित समिति के समक्ष साक्ष्य उपलब्ध कराने का 19 सितंबर (आज) अंतिम दिन है।

ये भी पढ़ें…..मनोज तिवारी के खिलाफ अवमानना नोटिस जारी: सर्वोच्च न्यायालय

जांच कमेटी जल्द ही अपनी रिपोर्ट अपर मुख्य सचिव प्रभात कुमार को सौंपेगी। इसके बाद विभाग की सिफारिश के साथ यह रिपोर्ट मुख्यमंत्री के पास भेजी जाएगी।

loading...
शेयर करें