#HBDayAtal : अटल के गांव से पहली बार दौड़ेगी ट्रेन

0
bateshwar-rail_1450164812
आगरा। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के 91वें जन्‍मदिन (25 दिसंबर) से एक दिन पहले उनके गांव बटेश्‍वर से पहली बार ट्रेन दौड़ेगी। रेल मंत्रालय ने 114 किलोमीटर लंबे आगरा–बटेश्‍वर–इटावा रेल लाइन शुरू करने की तैयारी की है। 12 साल पहले वाजपेयी ने खुद इस रेल लाइन का शिलान्‍यास किया था। गुरुवार को रेल राज्‍यमंत्री मनोज सिन्‍हा इस लाइन पर ट्रेन को हरी झण्‍डी दिखाएंगे।
आगरा रेल मंडल के डीआरएम प्रभात कुमार ने इस रूट पर जाकर ट्रायल भी किया है। वे आगरा से बटेश्‍वर और इटावा तक का सफर करके इस रूट पर रेल यात्रा शुरू करने की तैयारी का जायजा ले चुके हैं। एडीआरएम शैलेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजेपयी के जन्‍मदिन पर उनके गांव में ट्रेन चलना उनके लिए सबसे अच्‍छा गिफ्ट होगा।
अटल ने 2003 में आगरा-बटेश्‍वर-इटावा रेल लाइन का शिलान्‍यास किया था। उनके भतीजे रमेश चंद्र वाजपेयी कहते हैं कि नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनते ही उन्‍हें भरोसा हुआ था कि यह काम पूरा हो जाएगा। अटल बिहारी वाजपेयी के दादा पंडित श्याम लाल वाजपेयी मूल रूप से आगरा के बटेश्वर के रहने वाले थे। लेकिन वे मध्य प्रदेश के ग्वालियर आकर बस गए थे। अटल का जन्म ग्वालियर में ही हुआ था।
2004 के लोकसभा चुनाव में एनडीए के सत्‍ता से बाहर होने के बाद आगरा-बटेश्वर-इटावा रूट पर ट्रेन चलाने का प्रोजेक्ट पर कुछ सालों तक खास काम नहीं हुआ। वर्ष 2007 में इसके लिए फंड दिया गया। तब से इस पर धीरे-धीरे काम चल रहा था।शुरुआत में भूमि अधिग्रहण की अड़चनों की वजह से काम रुक गया था। हालांकि अब यह अड़चन भी खत्‍म हो चुकी है। इस रेलवे लाइन की लंबाई 114 किलोमीटर है। इस प्रोजेक्‍ट में कुल 11 रेलवे स्‍टेशन आ रहे हैं।
loading...
शेयर करें