जुमे की नमाज़ पढ़ रहे शिया मुस्लिमों पर हमला, मस्जिद में बम धमाके में 100 की मौत

काबुल: अफगानिस्तान के कुंदुज शहर में शुक्रवार को जुमे की नमाज़ के दौरान एक शिया मस्जिद में भीषड़ धमाका हुआ है। इस धमाके में कम से कम 50 लोगों के मारे जाने की सूचना है। कुंदुज सेंट्रल अस्पताल के एक स्वास्थ्य पेशेवर ने कहा, “अब तक हमें अपने अस्पताल में 35 शव मिले हैं और 50 से अधिक घायल हुए हैं।” इस बीच, डॉक्टर्स विदाउट बॉर्डर्स (MSF) अस्पताल के एक कर्मचारी ने शुक्रवार को एएफपी के अनुसार 15 लोगों की मौत और कई अन्य घायल होने की सूचना दी।

प्रत्यक्षदर्शियों ने कथित तौर पर दावा किया है कि इस हमले में 100 से अधिक लोग मारे गए और कई अधिक लोग घायल हुए है। अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र सहायता मिशन ने भी कहा है कि शुरुआती रिपोर्टों में मारे जाने और घायल होने की संख्या समान होने का संकेत मिलता है।

जुमे के नमाज़ के दौरान हुआ हमला

गूजर-ए-सईद अबाद मस्जिद में यह बम धमाका साप्ताहिक शुक्रवार की जुमे के नमाज़ के दौरान हुआ, आज के दिन मस्जिदों में आम तौर पर भीड़ होती है। टोलो न्यूज ने स्थानीय सुरक्षा अधिकारियों के हवाले से खबर दी है कि जिस वक्त हमला हुआ उस वक्त 300 सौ से ज्यादा लोग नमाज में शामिल हो रहे थे।

विस्फोट एक आत्मघाती हमला

तालिबान की नवगठित सरकार में संस्कृति और सूचना के निदेशक मतिउल्लाह रोहानी ने कथित तौर पर पुष्टि की कि विस्फोट एक आत्मघाती हमला था। कुंदुज प्रांत के उप पुलिस प्रमुख दोस्त मोहम्मद ओबैदा ने कहा कि आत्मघाती हमलावर मस्जिद के अंदर नमाजियों के बीच हो सकता है।

किसी समूह ने नही ली जिम्मेदारी

हालांकि अभी तक किसी भी समूह ने हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। एएफपी ने बताया कि तालिबान के प्रतिद्वंद्वी इस्लामिक स्टेट का सुन्नी बहुल देश में शियाओं पर लक्षित हिंसा का इतिहास रहा है। शिया अल्पसंख्यक अफगानिस्तान में केवल 20 प्रतिशत आबादी बनाते हैं, जिनमें से कई अत्यधिक सताए गए हजारा समुदाय से संबंधित हैं।

मरने वालों की संख्या बढ़ने की उम्मीद

एएफपी ने बताया कि एमएसएफ अस्पताल में एक अंतरराष्ट्रीय सहायता कर्मी के अनुसार, मरने वालों की संख्या और बढ़ सकती है। तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने पहले कहा था कि हमले के बीच अज्ञात संख्या में लोग मारे गए और घायल हुए।

 

Related Articles