एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक ने नाबार्ड के साथ समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर किए हस्ताक्षर

लखनऊ: एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक ने आज घोषणा की, कि बैंक ने राजस्थान में चल रही ग्रामीण विकास से जुड़ी पहलों को बढ़ावा देने के लिए नेशनल बैंक फॉर एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट (नाबार्ड) के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किया है।

एमओयू में, राज्य में किसानों, किसान उत्पादक संगठनों, स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी), ज्वाइंट लायबिलिटी ग्रुप्स(जेएलजी), ग्रामीण कारीगरों, कृषि-उद्यमियों, कृषि-स्टार्ट-अप्स आदि को फायदा पहुंचाने के लिए एक संयुक्त पहल की परिकल्पना की गई है।

नाबार्ड के चेयरमैन डॉ. जी.आर.चिंतला की उपस्थिति में, नाबार्ड के राजस्थान के चीफ जनरल मैनेजर जयदीप श्रीवास्तव तथा एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक के एमडी और सीईओ, संजय अग्रवाल ने एमओयू पर हस्ताक्षर किए।

इस अवसर पर एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक के एमडी और सीईओ, संजय अग्रवाल ने कहा, “नाबार्ड और एयू बैंक के बीच हुए इस एग्रीमंट से प्रदेश में चल रही विकास से जुड़ी हुई योजनाओं को इंस्टीट्यूशनल लेंडिंग का सहयोग मिलेगा जिससे ग्रामीण क्षेत्रों में और समृद्धि को बढ़ावा मिलेगा।

यह एसोसिएशन राज्य में खासकर कृषि और ग्रामीण विकास से जुड़े क्षेत्रों में लेंडिंग देने की प्रक्रिया को बढ़ावा देगा।” नाबार्ड के चीफ जनरल मैनेजर, जयदीप श्रीवास्तव ने कहा, “नाबार्ड और एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक के बीच यह जुड़ाव ग्रामीण क्षेत्रों को सशक्त बनाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है क्योंकि इससे ऋण की आसान उपलब्धता संभव होगी।

इस एमओयू पर हस्ताक्षर के साथ नाबार्ड और एयू बैंक दोनों राजस्थान में ग्रामीण क्षेत्रों के समग्र विकास की दिशा में नई ऊंचाइयां तय करेंगे।”

Related Articles