1 अगस्त: शुक्राचार्य करेंगे कन्या राशि में प्रवेश, इन राशियों पर पड़ेगा बड़ा प्रभाव

निरंतर दुनिया के हर मनुष्य के जीवन में बदलाव होते रहते हैं। जब जीवनकाल में बदलाव होता है तो हम यह मानते हैं कि ग्रह, नक्षत्र ने अपनी जगह में बदलाव किया है। ग्रह-नक्षत्र के बदलाव से मनुष्य के जीवन में अनेकों बदलाव देखने को मिलते हैं जैसे, कोई नुक्सान, कोई लाभ, ख़ुशी, दुःख आदि।

1 अगस्त: शुक्राचार्य करेंगे कन्या राशि में प्रवेश, इन राशियों पर पड़ेगा बड़ा प्रभाव

इसीलिए हम ग्रह, नक्षत्र की पूजा करते हैं ताकि इनके बदलाव से हमारे जीवन में सब मंगलमय और सुखमय हो। शनि भगवान् ग्रहों के स्वामी हैं इसीलिए हम उनकी और नौ ग्रहों की उपासना साथ में करते हैं।

अब बात करें अगले महीने की तो अगस्त माह की शुरुआत यानी कि 1 अगस्त को शुक्र राशिपरिवर्तन  कर रहा है। शुक्र दोपहर 12 बजकर 27 मिनट पर सिंह राशि से कन्या राशि में प्रवेश करेंगे और 1 सितम्बर को शनिवार के दिन रात 11 बजकर 29 मिनट तक यहीं पर रहेंगे। शुक्र के इस बदलाव से सभी राशियों पर कुछ न कुछ बदलाव देखने को मिलेगा।

ग्रह का यह बदलाव मीन राशि में उच्च का और कन्या राशि में नीच का होता है। जीवन में शुक्र का सबसे ज्यादा असर हमारे दाम्पत्य संबंधों पर पड़ता है। साथ ही घर की आर्थिक स्थिति पर भी इसका असर होता है।

शुक्र के कन्या राशि में इस प्रवेश से विभिन्न राशि वाले लोगों पर क्या प्रभाव होंगे, उन्हें क्या शुभाशुभ परिणाम प्राप्त होंगे, शुक्र उनकी जन्मपत्रिका में किस स्थान पर गोचर करेंगे, साथ ही शुक्र की शुभ स्थिति के शुभ फल सुनिश्चित करने के लिये और अशुभ फलों से बचने के लिये क्या उपाय करने चाहिए। आये जानते हैं इनके बदलावों के बारे में…

मिथुन
कहा जा रहा है कि शुक्राचार्य आपके चौथे स्थान पर गोचर करेंगे। शुक्र के इस गोचर के प्रभाव से आपके सामने एकस्ट्रा मैरिटल रिलेशन बनने के बहुत अधिक अवसर होंगे। आपको इनसे बचकर रहना चाहिए। साथ ही आपको संतान का सुख पाने के लिये कोशिशें करनी होगी। 1 सितम्बर तक आपकी आराम पसन्द या हरफनमौला लोगों से मुलाकात के भी चांसेज बनेंगे।

कर्क राशि
शुक्राचार्य आपके तीसरे स्थान पर गोचर करेंगे। शुक्र के इस गोचर के प्रभाव से भाई-बहनों के साथ आपके संबंधों में थोड़ी परेशानी आ सकती हैं। साथ ही 1 सितम्बर तक आप अपनी बात दूसरे से कहने में घबरा सकते हैं। अतः आपको अपने अन्दर कॉन्फिडेंस बनाकर रखना चाहिए। इस दौरान आपके पास चाहें कितनी ही धन-सम्पत्ति हो, आपको सुख की नींद आने में परेशानी आ सकती है। आपको इस दौरान अपनी मेहनत के अनुसार ही फल प्राप्त होंगे।

मेष राशि

जानकारी के मुताबिक शुक्राचार्य आपके छठे स्थान पर गोचर करेंगे। शुक्र के इस गोचर से आपके पास धन सामान्य रूप से बना रहेगा। आपकी आर्थिक स्थिति ठीक रहेगी। आपको समय-समय पर अपने भाई-बन्धुओं का सहयोग मिलता रहेगा। 1 सितम्बर तक आपके परिवार की उन्नति होगी। हालांकि संतान पक्ष से आपको आशानुसार लाभ नहीं मिल पायेगा। बाकी अन्य क्षेत्रों में आपकी स्थिति ठीक बनी रहेगी।

वृष राशि
ज्योतिषाचार्य के मुताबिक शुक्राचार्य आपके पांचवें स्थान पर गोचर करेंगे। शुक्र के इस गोचर के प्रभाव से आपके घर में बच्चों की किलकारियां गूंजेगी। आपको धन का लाभ मिलेगा। आपके दाम्पत्य संबंधों में मधुरता आयेगी। आपके पास नये विषयों की जानकारी बढ़ेगी। आपको अपने गुरु से पूरा सहयोग मिलेगा। साथ ही 1 सितम्बर तक आपको अपने शत्रुओं से भी छुटकारा मिलेगा।

सिंह राशि
शुक्राचार्य आपके दूसरे स्थान पर गोचर करेंगे। शुक्र के इस गोचर के प्रभाव से आपको अपने पास उपलब्ध धन का अधिक लाभ नहीं मिल पायेगा। आपको अपने जीवनसाथी से भी अधिक सहयोग नहीं मिलेगा। साथ ही संतान का सुख पाने में आपको परेशानी का सामना करना पड़ सकता है, लेकिन 1 सितम्बर तक अपना व्यवहार अच्छा बनाये रखने से आपको पारिवारिक सुख की प्राप्ति होगी।

कन्या राशि
शुक्राचार्य आपके पहले स्थान पर गोचर करेंगे। पहला स्थान लग्न का, यानी स्वयं का होता है। शुक्र का यह गोचर आपके लिये शुभ फलदायक होगा। 1 सितम्बर तक आपका और आपके जीवनसाथी का स्वास्थ्य अच्छा बना रहेगा। साथ ही आपको हर तरह के सुख की प्राप्ति होगी। नौकरी के क्षेत्र में भी आपको सफलता मिलेगी।

तुला राशि
शुक्राचार्य आपके बारहवें स्थान पर गोचर करेंगे। शुक्र के इस गोचर के प्रभाव से आपको दूसरों की सहायता पाने के लिये थोड़ी मेहनत करनी होगी। 1 सितम्बर तक आपके जीवनसाथी को कुछ परेशानी फेस करनी पड़ सकती है। आपका स्वास्थ्य भी ज्यादा ठीक नहीं रहेगा। साथ ही गृहस्थ सुख पाने में भी आपको कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

मकर राशि
शुक्राचार्य आपके नवें स्थान पर गोचर करेंगे। शुक्र के इस गोचर के प्रभाव से आपका भाग्योदय होगा। आपको अपनी मेहनत के बल पर धन लाभ होगा और संतान का सुख प्राप्त होगा। 1 सितम्बर तक अपनी मेहनत से आप कुछ भी पा सकते हैं। इससे आपके जीवन की सभी स्थितियां मजबूत होंगी। अतः शुक्र की शुभ स्थिति सुनिश्चित करने के लिये और जीवन में अगर किसी भी तरह की अशुभ स्थिति है तो उससे बचने के लिये 1 सितम्बर तक काली या लाल गाय की सेवा करें। इससे आपके भाग्य का साथ बना रहेगा।

कुंभ राशि
शुक्राचार्य आपके आठवें स्थान पर गोचर करेंगे। शुक्र के इस गोचर के प्रभाव से आपका स्वास्थ्य अच्छा बना रहेगा। आपको 1 सितम्बर तक अपने जीवनसाथी की हर बात माननी होगी। आपका जीवनसाथी जो कहेगा, वो आपके लिये पत्थर की लकीर होगा। साथ ही शत्रुओं को हराने के लिये आपको स्वयं ही कदम उठाने होंगे

मीन राशि
शुक्राचार्य आपके सातवें स्थान पर गोचर करेंगे। शुक्र के इस गोचर से दूसरों के प्रति आपका स्वभाव नरम बना रहेगा। आपको इस दौरान सुख की प्राप्ति होगी। साथ ही जीवनासाथी से आपके संबंध ठीक बने रहेंगे। उनकी सेहत भी इस दौरान ठीक रहेगी। साथ ही परिवार का सहयोग भी मिलता रहेगा। वैसे इस दौरान आपका अधिकतर समय बाहर यात्राओं में बीतेगा।

वृश्चिक राशि
शुक्राचार्य आपके ग्यारहवें स्थान पर गोचर करेंगे। शुक्र के इस गोचर के प्रभाव से आपकी सुंदरता बनी रहेगी। आपको धन का लाभ मिलेगा। अगर आप अपने हर काम जीवनसाथी की सलाह से काम करेंगे तो निश्चित रूप से आपकी आर्थिक स्थिति बेहतर होगी। साथ ही 1 सितम्बर तक आपकी आमदनी में बढ़ोतरी हो सकती है और आपकी बहुत दिनों से अधूरी पड़ी इच्छा भी पूरी हो सकती है। इस दौरान आप अपने बचपन को फिर से जीने की कोशिश में लगे रहेंगे।

धनु राशि
शुक्राचार्य आपके दसवें स्थान पर गोचर करेंगे। शुक्र के इस गोचर के प्रभाव से आपको अपने करियर में सफलता प्राप्त होगी। साथ ही आपको अपने कार्यों में पिता से सहयोग मिलेगा और 1 सितम्बर तक आपके पिता के करियर को भी चार चांद लगेंगे। इस दौरान आपको तरक्की के कई मौके मिलेंगे और आप भी उन मौकों का पूरा-पूरा फायदा उठायेंगे।

Related Articles