बाबा साहब भीमराव अंबेडकर संविधान निर्माता, जानिए कब हुआ था लागू

लखनऊ: डॉ. भीमराव आम्बेडकर (Ambedkar) का जन्म 14 अप्रैल 1891 में ब्रिटिश भारत के मध्य भारत प्रांत यानि मध्य प्रदेश स्थित महू नगर सैन्य छावनी में हुआ था। वे समाज सुधारक, राजनीतिज्ञ, अर्थशास्त्री, वकील, लेखक, चिंतक, दार्शनिक, सांसद, मंत्री व संविधान निर्माता ऐसे बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी थे। बाबा साहब आम्बेडकर (Ambedkar) देश के आजाद होने के बाद पहले कानून मंत्री बने और उन्होंने बतौर कानून मंत्री कई महत्पूर्ण कार्य भी किए थे।

डॉ. भीमराव अंबेडकर ने भारत में संविधान को दो साल, 11 महीने और 18 दिनों में तैयार कर राष्ट्र को समर्पित किया था। भारत देश में हमारा संविधान विश्‍व का सबसे बड़ा संविधान माना जाता है। संविधान बनाने वाले सभा के अध्यक्ष भीमराव अंबेडकर थे। वहीं जवाहरलाल नेहरू, डॉ राजेन्द्र प्रसाद, सरदार वल्लभ भाई पटेल, मौलाना अबुल कलाम आजाद आदि इस सभा के प्रमुख सदस्य थे। संविधान निर्माण में कुल 22 समितीयाँ थी जिसमें प्रारूप समिति ड्राफ्टींग कमेटी सबसे प्रमुख समिति थी। इस समिति का कार्य संपूर्ण ‘संविधान लिखना’ या ‘निर्माण करना’ था।

ये भी पढ़ें : देश में कितने होते है राष्ट्रीय पर्व? क्यों मनाते है गणतंत्र दिवस

26 नवंबर 1949 को भारत के संविधान को अपनाया गया था और बाद में 26 जनवरी 1950 को इसे पूरे देश में लागू किया गया था। आज संविधान लागू हुए 72 वर्ष हो गए है। इस दिन को गणतंत्र दिवस के रूप में पूरा देश राष्ट्रीय पर्व की तरह मनाता है। देश के प्रथम नागरिक व संवैधानिक प्रमुख देश के राष्ट्रपति होते है और प्रधानमंत्री राजनितिक। आज ही के दिन देश को पहले राष्ट्रपति मिले थे। डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने इसी दिन राष्ट्रपति के रूप में कार्यालय संभाला था। इसलिए 26 जनवरी को राष्ट्रपति ध्वज फहराते हैं।

ये भी पढ़ें : 26 जनवरी पर देशभक्ति से भरे इन संदेशों से दें गणतंत्र दिवस की बधाई

Related Articles