नेपाल में भारतीय टूरिस्टों की एंट्री पर लगा बैन, जानें क्या है कारण

कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन को लेकर नेपाल सरकार पूरी तरह से अलर्ट मोड पर है

क्रिसमस और न्यू ईयर करीब है. सर्दियों का मौसम भी है. अक्सर लोग सर्दियों के मौसम में छुट्टियां मनाने के लिए टूर का प्लान करते है. अगर आप भी इन सर्दियों में नेपाल घूमने का प्लान या मन बना रहे तो ऐसा मत करिएगा. क्योंकि कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन के खतरे को लेकर नेपाल सरकार ने भारतीय टूरिस्टों की एंट्री पर बैन लगा दिया है. इसके साथ ही महाराजगंज के सोनौली बॉर्डर से टूरिस्टों की बसें लौटाई जा रही है. जानकारी के लिए बता दें केवल सीमा के आसपास ही रहने वाले लोगों को एंट्री दी जा रही है. या जिनकी नेपाल में रिश्तेदारी है उन्हें ही जाने का मौका मिल रहा है.

नेपाल सरकार के फैसले से टूरिस्टों में नाराजगी

भारत-नेपाल की सरकारों के बीच 2 सप्ताह पहले ही समझौता हुआ था कि दोनों देशों के नागरिक कोविड टीके की दोनों डोज का प्रमाण दिखाकर आवाजाही कर सकेंगे. लेकिन इस बीच बिना आदेश नेपाल सरकार ने अचानक भारतीय पर्यटकों से 72 घंटे की RTPCT जांच रिपोर्ट मांगनी शुरू कर दी. सरकार के इस फैसले से टूरिस्टों में काफी नाराजगी है.

दिल्ली, गुजरात और केरल से पहुंचे थे टूरिस्ट

भारतीय पर्यटकों से भरी बस को नेपाली सीमा से वापस लौटाने और नेपाल जाने के लिए सोनौली पहुंचे दिल्ली, गुजरात और केरल के भारतीय पर्यटकों को RTPCR रिपोर्ट नहीं होने के कारण नेपाल में एंट्री नहीं मिली.

यह भी पढ़ें- अब नए रूप में दिखेगी विश्व पटल पर काशी की तस्वीर, अंदर से होगा अद्भुत नजारा, देखें तस्वीरें

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles