उ प्र अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की लैब टेक्नीशियन भर्ती पर लगी रोक

अपीलार्थियो के वकीलों का कहना है कि 15 सितंबर 2016 को आयोग ने लैब तकनीशियन भर्ती निकाली. अपीलार्थी भी परीक्षा में सफल घोषित हुए और साक्षात्कार में शामिल हुए.

प्रयागराज: इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की लैब टेक्नीशियन भर्ती में खाली बचे पदों को भरने पर रोक लगा दी है.

न्यायालय ने यह आदेश एकल पीठ के फैसले को अपील में चुनौती देने वाले अभ्यर्थियों के चयन अधिकार को संरक्षण देने के लिए दिया है. न्यायालय ने अपील को निस्तारित करने के लिए 2016 दिसंबर को इसे पेश करने का निर्देश दिया है.

मुख्य न्यायमूर्ति गोविन्द माथुर तथा न्यायमूर्ति सिद्धार्थ वर्मा की खंडपीठ ने जितेन्द्र कुमार मिश्र एव तीन अन्य की विशेष अपील की सुनवाई करते हुए यह आदेश दिया है.

अपीलार्थियो के वकीलों का कहना है कि 15 सितंबर 2016 को आयोग ने लैब टेक्नीशियन भर्ती निकाली. अपीलार्थी भी परीक्षा में सफल घोषित हुए और साक्षात्कार में शामिल हुए. 15 जून 17 को अंतिम परिणाम घोषित किया गया तो पता चला कि कट आफ मार्क से अधिक अंक पाने के बावजूद सैकडों अभ्यर्थियों का नाम चयन सूची में शामिल नही है. जिसे चुनौती दी गयी. एकलपीठ ने कोरोना संक्रमण के फैलाव को देखते हुए चयनितो की नियुक्ति पर लगी रोक हटाते हुए चयन प्रक्रिया पूरी करने का निर्देश दिया और याचिकाएं खारिज कर दी. नौ सितंबर 20 के इस एकल जज के फैसले के खिलाफ विशेष अपील दाखिल की गयी है. जिसकी सुनवाई करते हुए कोर्ट ने खाली बचे पदों को भरने पर रोक लगा दी है.

यह भी पढ़े: अर्नब की गिरफ्तारी प्रेस की स्वतंत्रता पर हमला: हरीश द्विवेदी

Related Articles

Back to top button