इस मंदिर में बाघों के साथ खेल सकते हैं आप

0

utt-tiger temple-5

बैंगकॉक। अगर आप बाघों के साथ सेल्फी लेना चाहते हैं, उनकी सवारी करना चाहते हैं, उनके साथ खेलना चाहते हैं या बाघों को पास से देखना चाहते हैं तो आपको बस थाइलैंड के टाइगर टेम्पल का रुख करना है, जहां आप ये सभी काम एक ही छत के नीचे कर सकते हैं।

utt-tiger temple-1

थाइलैंड के कंचनबुरी प्रांत में टाइगर टेम्पल स्थित है, जिसके अंदर 150 से ज्यादा बाघ और बौद्ध भिक्षु एक साथ रहते हैं। आपको जानकर हैरत होगी कि इस मंदिर में बाघ बिल्कुल आजाद घूमते हैं। बाघ यहां आने वाले पर्यटकों को किसी तरह का कोई नुकसान भी नहीं पहुंचाते।

utt-tiger temple-6

थाइलैंड-बर्मा बॉर्डर के पास स्थित टाइगर टेम्पल को “वात पा लुआंगता बुआ” के नाम से भी जाना जाता है। यह मंदिर बाघों को पसंद करने वाले पर्यटकों को खूब पसंद आ रहा है। बताया जाता है कि इस मंदिर की स्थापना 1994 में हुई थी।

ये भी पढ़ें – सांड़ों की लड़ाई में मर गया ‘खूबचन्द्र’

utt-tiger temple-3

इस मंदिर के नाम के पीछे भी एक रोचक कहानी है। कहा जाता है कि काफी समय पहले एक ग्रामीण द्वारा एक बाघ का बच्चा यहां लाया गया था। उसकी मां शिकारियों द्वारा मरी जा चुकी थी, लेकिन वह बच्चा ज्यादा दिन जिंदा नहीं रह पाया। उसके बाद इस मंदिर में बाघों के अनाथ बच्चे, ग्रामीणों द्वारा लाए जाने लगे और धीरे-धीरे इस टेम्पल में बाघों की संख्या बढ़ती ही चली गई और तभी से इसका नाम टाइगर टेम्पल पड़ गया।

utt-tiger temple-2

एक अनुमान के मुताबिक मौजूदा समय में यहां करीब 150 से ज्यादा बाघ हैं। इन बाघों को बौद्ध भिक्षुओं द्वारा प्रशिक्षण दिया जाता है। टाइगर टेम्पल में आने वाले पर्यटक इन बाघों के साथ न केवल खेलते हैं बल्कि विभिन्न फोज में फोटो भी खिंचवाते हैं।

 

आभार – ई टीवी न्यूज

loading...
शेयर करें