बैंक ऑफ बड़ौदा ने को-लेंडिग मैकेनिज्म के तहत हाउसिंग लोंस की सोर्सिंग…

लखनऊ: बैंक ऑफ बड़ौदा ने को-लेंडिग मॉडल (सीएलएम) मैकेनिज्म के तहत हाउसिंग लोन के उधारकर्ताओं को सोर्सिंग और फाइनेंसिंग के लिए सेंट्रम हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड (सीएचएफएल) के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। समझौता ज्ञापन पर आज बैंक ऑफ बड़ौदा के मॉर्टगेज एंड अदर रिटेल एसेट्स, के जनरल मैनेजर, श्री हर्षद कुमार टी. सोलंकी और सीएचएफएल के एमडी और सीईओ श्री संजय शुक्ला ने हस्ताक्षर किये।

सीएचएफएल नए दौर की अग्रणी हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों में से एक है, जो टियर 2 और 3 शहरों में अपनी उपस्थिति के साथ ‘मिडिल क्लास वर्ग’ इंडिया को दीर्घकालिक हाउसिंग फाइनेंस मुहैया करा रहा है जो अब पारंपरिक उधारदाताओं / बैंकों से कर्ज लेते रहे हैं।

इस अवसर पर बोलते हुए, बैंक ऑफ बड़ौदा के मॉर्टगेज एंड अदर रिटेल एसेट्स, के जनरल मैनेजर, श्री हर्षद कुमार टी. सोलंकी ने कहा, “यह गठजोड़ दोनों संस्थानों के लिए अनेक अवसर के द्वार खोलता है। बैंक बहुत प्रतिस्पर्धी दरों पर टियर 2 और टियर 3 शहरों के बाजारों में गहराई से प्रवेश करने में सक्षम होगा। बैंक एक वित्तीय वर्ष में हाउसिंग लोन सेगमेंट बिजनेस में 1000 करोड़ रुपये तक कर्ज मुहैया कराएगा।

सीएचएफएल के एमडी और सीईओ श्री संजय शुक्ला ने कहा, “हम अपने एक पार्टनर के रूप में बैंक ऑफ बड़ौदा का स्वागत करते हैं और अनडिजर्व्ड और अनसर्व्ड सेंगमेंट्स को क्रेडिट फ्लो को अधिकतम बनाने में एक दूसरे की ताकत का लाभ उठाने के लिए सहयोगात्मक दृष्टिकोण में विश्वास करते हैं।”

Related Articles