Bank Strike: निजीकरण के विरोध में बैंकों की हड़ताल, करोड़ों का कारोबार प्रभावित

नई दिल्ली: दो सरकारी बैकों के निजीकरण के विरोध में देशभर में बैंक कर्मचारी हड़ताल पर हैं। कर्मचारियों की हड़ताल से बैंकों का करीब 300 करोड़ से अधिक का कारोबार प्रभावित हुआ है। वहीं इससे आम लोगों को भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

फैसला वापस लेने की कर रहे मांग

देश के अलग अलग जगहों पर निजीकरण के विरोध में बैंक कर्मचारी हड़ताल पर हैं। प्रदर्शनकारियों मोदी सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं और बैंकों के निजीकरण के फैसले को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। कर्मचारियों को कहना है कि केन्द्र सरकार बैंकों का निजीकरण करके बड़े कॉरपोरेट समूहों को लाभ पहुंचाना चाहती है, जबकि सार्वजनिक बैंक आमजनता की सहुलियत के लिए संचालित होते है।

करोड़ों का कारोबार प्रभावित

बैंक कर्मचारियों की हड़ताल से देशभर में करोड़ों का कारोबार प्रभावित हुआ है। एक अधिकारी के मुताबिक हड़ताल से देशभर में करीब 2 करोड़ से ज्यादा चेक क्लीयर नहीं पाई हैं। जिससे कई हजार करोड़ का कारोबार प्रभावित हुआ है। इसके अलावा नकद निकासी, जमा व कारोबारी लेनदेन पर भी असर पड़ा है।

यह भी पढ़ें: Ind vs Eng: क्या तीसरे टी20 मुकाबले में बदलाव करेंगी दोनों टीमें?, देखें Playing XI

Related Articles