हमारें दिलो में आज भी जिंदा है बापू, जानें क्यों मनाया जाता है शहीद दिवस

लखनऊ: मोहनदास करमचन्द गांधी जिन्हे लोग प्यार से बापू (Bapu) व महात्मा गांधी बुलाते है वो आज भी हमारे दिलों में जिंदा है, सत्य में, अहिंसा में, सत्याग्रह में, भाई-चारे में हमेशा जिंदा रहेंगे। भारतीय इतिहास में आज के दिन 30 जनवरी को पूरा देश एक बहुत ही दुखद दिन के रूप में याद करता है। आज के दिन देशभर में सभा आयोजित करके महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी जाती है। भारत देश का महात्मा गांधी (बापू) (Bapu) की 73वीं पुण्यतिथि मना रहा है। आज के दिन देश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री सहित देश के कई नेता व नागरिक राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाधि पर पुष्पांजलि अर्पित करने के लिए भी जाते हैं।

हर साल 23 मार्च को अमर शहीद दिवस मनाया जाता है क्योंकि इस दिन 23 मार्च 1931 को भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को फांसी दी गई थी। 30 जनवरी को भी शहीद दिवस इसलिए मनाते है क्योंकि आज के दिन महात्मा गांधी की हत्या हुई थी। आपको बता दे कि 30 जनवरी, 1948 की शाम में बिड़ला हाउस में नाथूराम गोडसे ने बीच सड़क पर महात्मा गांधी को गोली मारकर हत्या कर दी थी। महात्मा गांधी जी की हत्या करने से पहले नाथूराम गोडसे से उनके पैर भी छुए थे। जब गांधीजी की हत्या हुई थी, उस वक्त उनकी उम्र 78 साल थी। नाथूराम गोडसे भारत के विभाजन को लेकर गांधीजी के विचार से सहमत नहीं था।

ये भी पढ़ें : सीएम योगी का बड़ा फैसला, गेहूं की MSP में की 50 रूपये की बढ़ोत्तरी

दो मिनट का मौन रखने का समय

केंद्र सरकार ने सभी राज्यों में आज 30 जनवरी को महात्मा गांधी (बापू) की 73वीं पुण्यतिथि पर सुबह 11 बजे दो मिनट का मौन रखने का निर्देश दिया है। गृह मंत्रालय के मुताबिक राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों से अनुरोध किया गया है कि वे सुनिश्चित करें कि शहीद दिवस को पूरी गंभीरता के साथ मनाया जाए। आज के दिन यह मौन देश के लिए उन वीर सपूतो के लिए भी होगा जिन्होंने देश के संघर्ष में अपनी जान दे दी थी।

ये भी पढ़ें : सीएम योगी का बड़ा फैसला, गेहूं की MSP में की 50 रूपये की बढ़ोत्तरी

Related Articles