इस वजह से Yahoo ने चीन से समेटा बिज़नेस

नई दिल्ली : याहू  ने मंगलवार को बताया कि उसने चीन से अपना कारोबार समेट लिया है। उसने अपने इस कदम के लिए चीन में बढ़ती कारोबारी और कानूनी चुनौतियों का हवाला दिया है। Yahoo ने बताया कि 1 नवंबर से उसकी सेवाओं को मेनलैंड चीन से नहीं एक्सेस किया जा सकेगा।

Yahoo की तरह लिंकडिन भी समेत चुका है कारोबार

शी जिनपिंग की अगुवाई वाली चीन की सरकार देश में इंटरनेट सेंसरशिप सख्ती से लागू किए हुए है। इस सेंसरशिप के तहत उसने चीन में काम कर रही सभी कंपनियों से राजनीतिक रूप से संवेदनशील और अनुचित कंटेंट और शब्दों पर रोक लगाने को कहा है। ऐसा करने में नाकाम कंपनियों पर चीन सख्ती से कार्रवाई कर रहा है।

यह भी पढ़ें : Mumbai High और Bassein में 60 फीसदी हिस्सेदारी विदेशी कंपनियों को दें : पेट्रोलियम मिनस्ट्री

चीन ने हाल में व्यक्तिगत सूचना सुरक्षा कानून लागू किया है, जो यह तय करता है कि कंपनियां क्या सूचना जुटा सकती हैं और उन्हें किस तरह से स्टोरेज में रखा जा सकता है। चीन के कानून में यह भी नियम है कि देश में संचालित होने वाली कंपनियों को अधिकारियों के मांगने पर डेटा मुहैया कराना होगा।

यह भी पढ़ें : 7वां वेतन आयोग: कर्मचारियों का दीवाली पर मिला तोहफा, वैरिएबल डीए में बड़ा बदलाव

Related Articles