डॉक्टर बनना अब हुआ महंगा, MBBS की एक साल की फीस में हुई इतने लाख की बढ़ोतरी, जानें

मेडिकल की पढ़ाई महंगी

UP में अब मेडिकल की पढ़ाई महंगी हो गई है. खासकर प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में अब स्टूडेंट्स को पहले से ज्यादा फीस भरनी पड़ेगी. मेडिकल फीस में 40 हजार रुपये से लेकर एक लाख रुपये तक की सालाना बढ़ोतरी की गई है. राज्यपाल की रिकमेंडेशन के बाद मेडिकल एजुकेशन डिपार्टमेंट ने फीस बढ़ोतरी को मंजूरी दे दी. इसके लिए आदेश भी जारी कर दिए गए हैं. बता दें कि प्राइवेट कॉलेज में फीस बढ़ोतरी का फैसला मैनेजमेंट के हाथ में होता है. लेकिन प्राइवेट कॉलेजों की फीस भी सरकार ही तय करती है.

काउंसलिंग अभी भी अटकी

UP में 31 मेडिकल कॉलेजों में MBBS की 4159 सीटें हैं, जिनमें 29 कॉलेज प्राइवेट, चार अल्पसंख्यक मेडिकल कॉलेज हैं. वहीं 25 प्राइवेट कॉलेजों में MBBS की 3828 सीटें है. बता दें कि मेडिकल कोर्स में दाखिले के लिए 12 सतंबर को नीट की परीक्षा हुई थी. इसका रिजल्ट भी जारी हो चुका है. लेकिन मामले अभी भी कोर्ट में लंबित है, इसी वजह से काउंसलिंग अभी भी अटकी हुई है. शैक्षिक सत्र 2021-22 में एडमिशन के लिए तैयारियां शुरू कर दी गई है. इसी वजह से सरकार ने MBBS में एडमिशन के लिए फीस तय कर दी गई है.

फीस में 1 लाख तक की बढ़ोतरी

सरकार ने MBBS की सालाना फीस में 40 हजार से 1 लाख रुपये तक बढ़ा दिए हैं. फीस बढ़ाने को लेकर मेडिकल एजुकेशन चीफ सेक्रेट्री, मेडिकल एजुकेशन डायरेक्टर जनरल, फाइनेंस ऑफिसर की कमेटी बनाई गई थी. फिलहाल कमेटी ने सिर्फ एक साल की फीस तय की है. बहुत से ऐसे परिवार हैं जो अपने बच्चों को डॉक्टर तो बनाना चाहते हैं लेकिन उनकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है. बच्चों के होशियार होने के बाद भी पैसा ज्यादा भरने की वजह से उनका बच्चों को डॉक्टर बनाने का सपना अधूरा रह सकता है.

यह भी पढ़ें- मंत्री जी एक नजर इधर भी देख लेते तो आप भी जान जाते कितना विकास हुआ ?, पढ़िए ये खबर

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

 

Related Articles