Scam 1992 से पहले बस कट रही थी Prateek Gandhi की जिंदगी, एक कमरे का घर और पूरा परिवार

अभिषेक बच्चन और स्कैम 1992 के हर्षद मेंहता यानी की Prateek Gandhi दोनों ने ही पर्दे पर हर्षद मेंहता का किरदार निभाया है।

मुंबई: अभिषेक बच्चन की फिल्म ‘द बिग बुल’ के रिलीज के बाद वेबसीरीज ‘Scam 1992’ फिर से चर्चा में आ गया है। अभिषेक बच्चन और स्कैम 1992 के हर्षद मेंहता यानी की Prateek Gandhi दोनों ने ही पर्दे पर हर्षद मेंहता का किरदार निभाया है। हालांकि प्रतीक गांधी का परफॉरमेंस के चर्चे अभिषेक बच्चन से ज्यादा हो रही हैं। ऐसे में प्रतीक गांधी नें ह्यूमन्स ऑफ बॉम्बे (Humans Of Bombay) के साथ अपनी सफलता और जिंदगी के मुश्किल दिनों के बारे में बात की है।

Prateek Gandhi जब 4th क्लास में थे

प्रतीक गांधी  अपने Acting करियर के बारे में बताया, ”मैं चौथी क्लास में था जब मैंने पहली बार स्टेज पर परफॉर्म किया था। वो बस एक 5 मिनट का स्क्रिपट (Script) था, लेकिन उस दिन मेरे लिए बजी तालियां मुझे याद रह गई थीं। उसी के बाद मेरा एक्टिंग करने का मन बना, मेरे टीचर्स ने मुझे और ज्यादा प्ले में लेना शुरू कर दिया। लेकिन हम मिडिल क्लास थे। मेरे पापा मुझे सपोर्ट तो करते थे लेकिन साथ में ये भी कहते थे कि पहले डिग्री लो, फिर जो करना है करो।

1BHK में गूजर रही थी जिंदगी

तो मैंने इंजीनियरिंग करना सही समझा, लेकिन इसके साथ भी मैं कुछ प्ले करता था। क्योंकि इश्क तो एक्टिंग से ही था।” मुंबई में बिताया अपने शुरुआत दिनों को लेकर प्रतीक ने बताया, ”ग्रेजुएशन के बाद मैं बॉम्बे आ गया था। 4 साल मैंने एक प्रोजेक्ट बेसिस पर काम किया ताकि मैं एक्टिंग कर पाऊं। लेकिन कभी-कभी महीनों तक कोई कमाई नहीं होती थी। तो मैंने छोटे-मोटे काम करने शुरू किए जैसे टीवी टावर लगाना, एंकरिंग करना। फिर 2006 में सूरत में बाढ़ में हमारा घर चला गया। इसके बाद मेरा परिवार बॉम्बे आ गया। हम सब 1BHK में रहते थे। फिर मेरी शादी हो गई तो हम 5 लोग उस छोटे-से घर में साथ रहने लगे। तो मैंने एक नौकरी पकड़ ली।”

View this post on Instagram

A post shared by Humans of Bombay (@officialhumansofbombay)

उन्होंने फिल्मी करियर की शुरुआत के बारे में बताया, ”मैं फिर भी काम के पहले और बाद में दो घंटे की रिहर्सल करता था। मैं प्ले में भी काम करता था। ऐसा मैंने 6 सालों तक किया। फिर आखिरकार मुझे एक गुजराती फिल्म में काम मिला। उन्होंने आगे बताया, ”सौभाग्य से बे यार हिट हुई और मैं रातोंरात मेनस्ट्रीम गुजराती एक्टर बन गया। तो जब मुझे दूसरी फिल्म का ऑफर आया, मैंने उसे हां कह दिया और 36 की उम्र में अपनी नौकरी छोड़ दी। जबकि मेरे सिर पर घर का लोन था और घर में एक छोटा बच्चा था, मुझे ऐसा करना सही लगा।”

शो के हिट होने पर बदल गई जिंदगी

स्कैम 1992 में काम मिलने को लेकर प्रतीक गांधी ने बताया, ”मैं कुछ हिंदी फिल्में की और वेब सीरीज कीं। लेकिन मुझे मेरा बड़ा ब्रेक तब मिला जब मुझे हंसल मेहता की टीम से कॉल आई। मैं सोनी लिव की सीरीज स्कैम 1992 में हर्षद मेहता के रोल के लिए शॉर्टलिस्ट हो गया था। मैंने अपने रोल की तैयारी तुरंत शुरू कर दी थी। हर्षद मेहता की पुरानी न्यूज क्लिपिंग्स देखने से लेकर स्टॉक मार्केट के बारे में पढ़ने तक, मैंने सबकुछ किया। और फिर शो रिलीज हो गया…”

शो के हिट होने के बाद प्रतीक गांधी की जिंदगी में बड़े बदलाव आए, जिनके बारे में उन्होंने कहा, ”उस समय मैंने ये नहीं समझा था कि शो कितना बड़ा हिट हुआ बना है। वो बहुत बढ़िया था। जब शबाना आजमी मैडम ने मुझे कहा कि उन्होंने 20 साल में जो सबसे बेहतरीन परफॉरमेंस देखी है वो मेरी है, तो मेरी आंखों में आंसू आ गए थे। मेरी पत्नी बेहद खुश थी।

यह भी पढ़ें

जब मेरे माता-पिता ने मुझे IIFA अवॉर्ड जीतते देखा तो वह इमोशनल हो गए थे।” जिंदगी ने जैसे एकदम से रफ्तार पकड़ ली है। लेकिन ये सब 36 साल की उम्र में मेरे साथ इसलिए हुए क्योंकि मैंने जिंदगी के साथ सहज होने के बजाए रिस्क लिया, क्योंकि रिस्क है तो इश्क है।”

Related Articles

Back to top button