बैठक से पहले किसानों ने सरकार को लिखा पत्र ( Letter ), अपनी मांगो को दोहराया 

संयुक्त किसान मोर्चा ( United Farmer Front ) ने बुधवार को होने वाली बैठक से पूर्व मंगलवार को सरकार को पत्र ( Letter ) लिखकर तीन कृषि कानूनों को रद्द करने समेत अपनी कई मांगों को दोहराया है।

सोनीपत: संयुक्त किसान मोर्चा ( United Farmer Front ) ने बुधवार को होने वाली बैठक से पूर्व मंगलवार को सरकार को पत्र ( Letter ) लिखकर तीन कृषि कानूनों को रद्द करने समेत अपनी कई मांगों को दोहराया है। सोनीपत ( Sonipat ) के कुंडली बॉर्डर पर मंगलवार को आयोजित किसान मोर्चा ( Farmer Front ) की बैठक में कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय ( Ministry of Farmers Welfare ) के सचिव संजय अग्रवाल को पत्र ( Letter ) लिखा।

पत्र ( Letter ) लिखकर बुधवार, 30 दिसंबर को दो बजे होने वाली बैठक का स्वागत करते हुए भारत सरकार ( Indian government ) से मांग की है कि तीन कृषि कानूनों को निरस्त किया जाए। किसानों की फसलों को न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदने की गारंटी दी जाए। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली ( DELHI ) क्षेत्र और आसपास के इलाकों में वायु गुणवत्ता प्रबंधन के लिए आयोग अध्यादेश-2020 में ऐसे संशोधन किए जाएं जो अध्यादेश किसानों को दंड प्रावधानों से बाहर रखें।

ये भी पढ़े : लखनऊ की हालात भी गंभीर, बढ़ रहा वायु प्रदूषण ( Air Pollution ), देश में सबसे आगे कानपुर

विद्युत संशोधन विधेयक-2020 ( Electricity Amendment Bill ) मसौदे को वापस लिया जाए। संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से लिखे गए पत्र ( Letter ) में कहा गया है कि कल की बैठक इस एजेंडे पर चले ताकि कोई सार्थक परिणाम निकल सकें। किसान नेता शिवकुमार काका ने कहा कि किसान कल की बैठक को लेकर पूरी तरह से तैयार है और उम्मीद करते हैं की कल की बैठक में उनकी मांगों को मान लिया जाएगा। भारी संख्या में किसान ( Farmer  ) दिल्ली बॉर्डर ( Delhi border ) पर हाड कंपकंपा देने वाली ठंड में धरना दे रहे हैं। अब समय आ गया है कि किसानों की मांगे मान कर इस मसले का जल्द हल निकाला जाए।

Related Articles