बेलगाम पुलिस के करतूत की खुली पोल, रूह कांपने वेला अलीगंज थाने से वीडियो वायरल

लखनऊ: यूपी की राजधानी लखनऊ की कमिश्नरेट पुलिस आए दिन चर्चा में बनी रहती है और ज्यादातर दबंगई के नाम पर चर्चित है। लखनऊ में कमिश्नरेट सिस्टम लागू होने के बाद यहां की पुलिस बेलगाम हो गई है। अलीगंज थाने की पुलिस के पिटाई से एक युवक की हत्या का आरोप है तो वहीं, पुलिस हत्या का दोष निर्दोष के सिर पर मढ़ रही है।

पुरानी घटना ताजा वीडियो

सोशल मीडिया पर लखनऊ के अलीगंज इलाके का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें कुछ पुलिसकर्मी दो युवकों की बेरहमी से पिटाई करते हुए नजर आ रहे हैं। बताया जा रहा है कि यह घटना 28 दिन पुरानी है जिसका वीडियो अब वायरल हो रहा है।

https://twitter.com/himansulive/status/1426170883119276032?t=fBektuATH4lJfzsiipRKxg&s=19

हत्यारिन पुलिस निर्दोष पर लगा रही आरोप

पुलिस लगातार दो युवकों को पीटते हुए दिखाई दें रहे है। अरुण सिंह ने पुलिस पर आरोप लगाया है कि पुलिस अपने बचाव में तथ्यों को छुपाकर आयुष और आदेश के ऊपर हत्या का आरोप मढ़ रही है। जबकि सुमित की मौत पुलिस की पिटाई से हुई है। कंचन पुरम, त्रिवेणी नगर के रहने वाले अरुण कुमार सिंह ने मानवाधिकार में इसकी शिकायत भी की है।

पूरा मामला

सोशल मीडिया पर शिकायत पत्र भी वायरल हो रहा है, जिसमे पीड़ित ने लिखा है कि 15 जुलाई को सुमित नशे में धुत अपने साथी के साथ अरुण सिंह के घर पहुंचा। उसने अरुण सिंह की पत्नी चित्रवती को धमकाते हुए कहा, तुम्हारे लड़के आदेश को हम जान से मार देंगे और गंदी-गंदी गाली देते हुए वहां से चला गया। उसके अगले दिन अरुण सिंह के घर पर दो बार सुमित आया। घर पर अरुण की पत्नी थी और घर के अंदर घुस कर उन्हें धमकाया। उस समय सुमित के हाथ में असलहा था और उसके साथ एक लड़का भी था। उसी दिन देर रात आयुष, आदेश, सुमित और उसके एक अन्य साथी से आमना-सामना हुआ। दोनों पक्षों में मारपीट होने लगी। अरुण सिंह का कहना है कि घटनास्थल पर वह मौजूद थे।

सुमित

पुलिस की पिटाई का प्रदर्शन

जब दोनों पक्षो में विवाद बढ़ने लगा तो 112 पर सूचना दी गई। मोटरसाइकिल से दो सिपाही मौके पर पहुंचे और सुमित व उसके साथी को लाठी-डंडों से पीटने लगे। इसके 15 मिनट बाद अलीगंज थाने की पुलिस की गाड़ी आ गई। सुमित को पुलिस वालों ने लाठी-डंडे से खूब मारा। इसके बाद उसके पीछे एक लात मारी, जिससे वह मुंह के बल जमीन पर गिर गया।

उसके नाक से खून निकलने लगा, फिर उसकी पिटाई की। उसके बाद पुलिस अपनी गाड़ी में लादकर दोनों को अलीगंज थाने ले गई। सुमित और उसके साथी को पुलिस भाऊराव देवरस चिकित्सालय महानगर में भर्ती कराया। जहां सुमित की गंभीर हालत देखते हुए उसे सिविल अस्पताल रेफर कर दिया गया। जहां पहुंचने से पहले ही उसकी मौत हो गई।

वायरल वीडियो की चल रही जांच

अलीगंज थाने की पुलिस की पोल तब खुली जब सोशल मीडिया इस पिटाई का वीडियो वायरल हुआ। अगर ये न होता तो सब खामोश होता। इस वीडियो के संबंध में लखनऊ पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर ने बताया कि वीडियो संज्ञान में है और इसकी जांच की जा रही है। साक्ष्य सामने आने पर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। कमिश्नर ने पीड़ित की शिनाख्त नहीं होने की बात कहीं है।

Related Articles