#Bermuda triangle गजब! इस जहाज का बरमुडा ट्राइएंगल भी कुछ नहीं बिगाड़ पाया

0

Cotopaxi

सैकड़ों सालों से रहस्य के घेरे में कैद बरमुडा ट्रैंगल से ताजा खबर यह है कि उस क्षेत्र से सौ साल पहले लापता हुआ जहाज लौट आया है। अभी तक जो भी बरमुडा ट्रैंगल के घेरे में गया वह लौटा नहीं चाहे वह पानी के रास्ते  से गया हो या आकाश के रास्ते से।

क्यूबा के तटरक्षक गार्ड ने घोषणा की है कि उन्हें अपने द्वीप क्षेत्र में एक लावारिस जहाज मिला है जिस पर कोई नहीं था। अविश्वसनीय रूप से माना जा रहा है कि यह जहाज एसएस कोटोपाक्सी है। जो कि एक बड़ा स्टीमर है। यह दिसम्बर 1925 में लापता हो गया था। तब से  अब तक इस शिप की कोई खोज खबर नहीं मिली थी। लेकिन इस शिप की ताजा बरामदगी ने लोगों के जेहन में बरमुडा ट्रैंगल की याद ताजा कर दी है।

क्यूबा के तटरक्षकों ने पहली बार इस जहाज को 16 मई को पश्चिमी हवाना के प्रतिबंधित सैन्य क्षेत्र में देखा। उन्होंने जहाज के चालक दल से सम्पर्क करने के काफी प्रयास करने के बाद तीन गश्ती नौकाओं को उसे घेरने भेजा।

आश्चर्यजनक खोज

cubaहालांकि जहाज पर पहुंचने पर वह यह देख कर दंग रह गये कि जहाज सौ साल पुराना स्टीमर कोटोपाक्सी है जिसका रिश्ता प्रसिद्ध बरमुडा ट्रैंगल से जुड़ा हुआ है। जहाज पर स्वाभाविक रूप से कोई नहीं था। दशकों से वह वीरान पड़ा था। माना जाता है कि यह आवारा जहाज एक मालवाहक था। जो 1925 में लापता हो गया था।

जहाज की सघन तलाशी में कैप्टन की लॉग बुक मिली जिसमें जहाज के क्लींच फील्ड नैविगेशन कम्पनी से सम्बद्ध होने की बात पता चली। जो कि एसएस कोटोपाक्सी की मालिक थी। लेकिन उसमें इस बात का कोई जिक्र नहीं था कि जहाज के साथ 90 साल पहले क्या हुआ। न ही इसके पीछे किसी षडयंत्र की कहानी की पुष्टि हुई।

29 नवम्बर 1925 को एसएस कोटोपाक्सी साउथ कैरोलिना के चार्ल्सटन से हवाना के लिए रवाना हुआ। जहाज पर कैप्टन डब्ल्यू जे मेयर के नेतृत्व में 32 सदस्यीय चालक दल था और जहाज पर 2340 टन कोयला लदा था। दो दिन बाद यह लापता हो गया था और तबसे अब तक इसके बारे में कुछ पता नहीं चला था।

क्यूबा मंत्रिपरिषद के उपाध्यक्ष जनरल अबेलार्डो कोलोम ने घोषणा की है कि क्यूबा के अधिकारी जहाज के अचानक लापता होने और फिर प्रकट होने की विस्तृत जांच करने जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमारे लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि क्या हुआ था। ऐसी घटनाएं हमारी अर्थव्यवस्था पर बुरा असर डालती हैं। इसलिए हम आश्वस्त होना चाहते हैं कि ऐसी घटनाएं दोबारा न हों। अब समय आ गया है कि बरमुडा के रहस्य को एक बार और हमेशा के लिए हल कर दिया जाए।

परम्परागत रूप से बहुत सी लापता या गायब होने की घटनाओं को असाधारण और अलौकिक घटना मान लिया जाता था। बरमुडा ट्रैंगल में जाकर गायब हुए सैकड़ों जहाजों, नावों और हवाई जहाजों का कुछ भी पता नहीं चला। कोई सुराग भी नहीं मिला।

इन कहानियों के अलावा बहुत से वैज्ञानिक यह भी मानते हैं कि बरमुडा ट्रैंगल जैसी कोई चीज है ही नहीं। वह लापता होने की इन घटनाओं को मानवीय त्रुटि, प्राकृतिक कारण मानते हैं। लेकिन यह हमेशा से रहस्य रहा कि समुद्र के इस क्षेत्र में आकर ही क्यों पायलट या कैप्टन गलती करते हैं।

लेकिन एसएस कोटोपाक्सी ने दोबारा प्रकट होकर वैज्ञानिकों को एक बार फिर बरमुडा ट्रैंगल पर नये सिरे से सोचने पर मजबूर अवश्य कर दिया है।

ऐसा नहीं है कि यह पहला जहाज है जो मिला है। इससे पहले भी द मैरी सैलेस्ट बरमूड़ा त्रिकोण में फंसकर गायब हुआ था। इसे सबसे रहस्यमयी घटना माना जाता था।

5 नवम्बर, 1872 को यह जहाज़ न्यूयॉर्क से जिनोआ के लिए चला, लेकिन वहां कभी नहीं पहुंच पाया। बाद में ठीक एक माह के उपरान्त 5 दिसम्बर, 1872 को यह जहाज़ अटलांटिक महासागर में सही-सलामत हालत में मिला, परन्तु इस पर एक भी व्यक्ति नहीं था। अन्दर खाने की मेज सजी हुई थी, किन्तु खाने वाला कोई न था। इस पर सवार सभी व्यक्ति कहां चले गये ? खाने की मेज किसने, कब और क्यों लगाई ? ये सभी सवाल आज तक एक अनसुलझी पहेली ही बने हुए हैं।

https://puridunia.com/bermuda-triangle…bermuda-triangle/58897

https://puridunia.com/a-mystery-which-…nd-learn-58911-2/58911

loading...
शेयर करें