सकारात्मक वैश्विक संकेतों के बीच शेयर बाजारों में लगातार दर्ज हुई तेजी

0

मुंबई: बीते सप्ताह सकारात्मक वैश्विक संकेतों के बीच शेयर बाजारों में लगातार छठे हफ्ते तेजी दर्ज की गई और सेंसेक्स व निफ्टी अब तक की रिकार्ड ऊंचाई पर बंद हुए। साप्ताहिक आधार पर सेंसेक्स 393.27 अंकों या 1.03 फीसदी की तेजी के साथ 38.645.07 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 123.40 अंकों या 1.07 फीसदी की तेजी के साथ 11,680.50 पर बंद हुआ। बीएसई के मिडकैप सूचकांक में 328.59 अंकों या 1.99 फीसदी की तेजी दर्ज की गई और यह 16,881.33 पर बंद हुआ, जबकि स्मॉलकैप सूचकांक 328.77 अंकों या 1.95 फीसदी की तेजी के साथ 17.193.20 पर बंद हुआ।

सोमवार को घरेलू बाजारों में अच्छी मजबूती दर्ज की गई और सेंसेक्स 442.31 अंकों या 1.16 फीसदी की तेजी के साथ 38,694.11 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 134.85 अंकों या 1.17 फीसदी की तेजी के साथ 11,691.95 पर बंद हुआ।

मंगलवार को सेंसेक्स में 202.52 अंकों या 0.52 फीसदी की तेजी दर्ज की गई, जबकि निफ्टी 46.55 अंकों या 0.4 फीसदी के तेजी के साथ 11,738.50 पर बंद हुआ।

बुधवार को घरेलू शेयर बाजारों में गिरावट दर्ज की गई और सेंसेक्स 173.70 अंकों या 0.45 फीसदी की गिरावट के साथ 38,722.93 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 46.60 अंकों या 0.40 फीसदी की गिरावट के साथ 11,691.90 पर बंद हुआ।

गुरुवार को नकारात्मक वैश्विक संकेतों के बीच सेंसेक्स 32.83 अंकों या 0.08 फीसदी की गिरावट के साथ 38,690.10 पर तथा निफ्टी 15.10 अंकों या 0.13 फीसदी की गिरावट के साथ 11,676.80 पर बंद हुआ।

सप्ताह के अंतिम कारोबारी दिन सेंसेक्स 45.03 अंकों या 0.12 फीसदी की गिरावट के साथ 38,645.07 पर बंद हुआ। वहीं, निफ्टी 3.70 अंकों या 0.03 फीसदी की मामूली तेजी के साथ 11,680.50 पर बंद हुआ।

सेंसेक्स के तेजी वाले शेयरों में प्रमुख रहे – स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (2.85 फीसदी), टीसीएस (1.76 फीसदी), विप्रो (3.2 फीसदी), भारती एयरटेल (4.03 फीसदी), सन फार्मा (3.58 फीसदी) और लार्सन एंड टूब्रो (1.96 फीसदी)।

सेंसेक्स के गिरावट वाले शेयरों में यस बैंक (8.34 फीसदी) और रिलायंस इंडस्ट्रीज (2.9 फीसदी) प्रमुख रहे।

आर्थिक मोर्चे पर, अप्रैल-जुलाई अवधि में देश का राजकोषीय घाटा 5.40 लाख करोड़ रुपये रहा, जोकि पूरे वित्त वर्ष के बजटीय लक्ष्य का 86.5 फीसदी है, जबकि एक साल पहले की समान अवधि में यह 92.4 फीसदी था। वित्त वर्ष 2018-19 के पहले चार महीनों में सरकार ने कुल 2.93 लाख करोड़ रुपये का कर इकट्ठा किया है।

वैश्विक मोर्चे पर, चीन का फैक्ट्री उत्पादन अगस्त में अनुमान से बेहतर रहा। चीन का आधिकारिक पर्चेजिंग मैनेजर्स सूचकांक इस महीने 51.3 पर रहा। इस सूचकांक में 50 से कम का अंक मंदी का और 50 से अधिक का अंक तेजी का संकेत है।

loading...
शेयर करें