IPL
IPL

सावधान…OTT प्लेटफार्म पर वेब सीरीज (Web series) के लिए बने कड़े नियम

सूचना और प्रसारण मंत्रालय के सचिव ने बताया कि वेब सीरीज खुद से उम्र के आधार पर 5 श्रेणियों में वर्गीकरण करेंगी और ये अंतरराष्ट्रीय वर्गीकरण है

नई दिल्ली: OTT और डिजिटल मीडिया प्लेटफॉर्म की नई आचार-संहिता पर सूचना और प्रसारण मंत्रालय के सचिव अमित खरे ने कहा कि वेब सीरीज (Web series) में नई व्यवस्था की गई है। वेब सीरीज में प्री-सेंसरशिप जैसी व्यवस्था नहीं रखी है। वेब सीरीज खुद से उम्र के आधार पर 5 श्रेणियों में वर्गीकरण करेंगी और ये अंतरराष्ट्रीय वर्गीकरण है।

सरकार की भूमिका कम से कम रखी गई है। शिकायत निवारण में कहा गया है कि वो खुद ही अपनी शिकायतों का निपटारा कर लें, नहीं तो एसोसिएशन बना लें और उसमें ​सेवानिवृत्त जज या किसी विख्यात व्यक्ति को रखें।

Social Media Guidelines

डिजिटल मीडिया की गाइडलाइन (Digital Media Guidelines) पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद (Union Minister Ravi Shankar Prasad) ने बताया कि सोशल मीडिया (Social Media) को 2 श्रेणियों में बांटा गया है, एक इंटरमीडरी और दूसरा सिग्निफिकेंट सोशल ​मीडिया इंटरमीडरी। सिग्निफिकेंट सोशल ​मीडिया इंटरमीडरी पर अतिरिक्त कर्तव्य है, हम जल्दी इसके लिए यूजर संख्या का नोटिफिकेशन जारी करेंगे।

यह भी पढ़ेAmbani के घर के बाहर मिली Scorpio Car की हुई पहचान, मुंबई पुलिस ने किया बड़ा खुलासा

शिकायत निवारण तंत्र

डिजिटल मीडिया की गाइडलाइन पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बोला कि एक शिकायत निवारण तंत्र रखना होगा और शिकायतों का निपटारा करने वाले ऑफिसर का नाम भी रखना होगा। ये अधिकारी 24 घंटे में शिकायत का पंजीकरण करेगा और 15 दिनों में उसका निपटारा करेगा। यूजर्स की गरिमा को लेकर अगर कोई शिकायत की जाती है, खासकर महिलाओं की गरिमा को लेकर तो आपको शिकायत करने के 24 घंटे के अंदर उस कंटेट को हटाना होगा।

शरारती कंटेट का ओरिजनेटर

रविशंकर प्रसाद ने बोला कि कोर्ट के आदेश और सरकार द्वारा पूछा जाने पर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को शरारती कंटेट का ओरिजनेटर बताना होगा। सिग्निफिकेंट सोशल ​मीडिया (Significant Social Media) के कानून को हम तीन महीने में लागू करेंगे।

यह भी पढ़ेAmbani के घर के बाहर मिली Scorpio Car की हुई पहचान, मुंबई पुलिस ने किया बड़ा खुलासा

Related Articles

Back to top button