भोपाल गैंगरेप: रेप कर ताश खेल रहा था आरोपी , पुलिस ने नहीं, हमने पकड़ा

0

जीने का कतई हक नहीं

भारी मन से गैंगरेप पीडि़ता ने कहा कि ऐसे लोगों को कतई जीने का हक नहीं हैं। उन्‍‍हें बीच चौराहे पर फांसी पर लटका देना चाहिए। लोग अगर छूट गए तो दूसरे लोगों के साथ भी यही काम करेंगे।

पुलिस ने केस दर्ज नहीं किया

पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए पीड़िता ने कहा कि इस मामले में सबसे घटिया पुलिस का व्यवहार था। इस थाने से उस थाने और उस थाने से इस थाने दौड़ाती रही। कम से कम तीन चार थाने में हम चक्कर लगाते रहे। आरोपी को पकड़ लिया वो मेरे सामने खड़ा होकर गुनाह कबूल कर रहा था तब भी पुलिस केस दर्ज नहीं किया। हम देर शाम तक परेशान होते रहे।

पुलिस ने नहीं हमने पकड़ा आरोपी को 

पीड़िता ने बताया कि आरोपियों को पुलिस ने नहीं बल्कि मेरे मम्मी पापा ने पकड़ा था। सुबह हम पहली बार आठ बजे एमपी नगर थाने पहुंचे, वहां के अधिकारी ने घटना स्थल का दौरा किया और कह दिया ये हमारे एरिया में नहीं आता। उसके बाद हम वहां से निकले तो एक बस्ती में गए तो वहां एक आरोपी ताश खेल रहा था। मैंने उसे पहचान लिया। हम लोग उसे पकड़ कर थाने लाए।

loading...
1
2
शेयर करें