Reliance की 44वीं AGM मीटिंग में बड़ी घोषणाएं, सऊदी अरामको बोर्ड में शामिल

मुंबई: आज Reliance Industries Limited की 44वीं AGM मीटिंग हुई। मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली देश की सबसे वैल्युएबल कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज की AGM दूसरी बार ऑनलाइन हुई है। उन्होंने AGM में कहा कि उनके पिता धीरूभाई अंबानी ने भारतीय प्रतिभा और नई प्रौद्योगिकी में निवेश के सिद्धांत पर रिलायंस को शुरू किया था और मैंने भी इसका पालन किया।

AGM की शुरुआत में उन्होंने कंपनी के बोर्ड में शामिल वाईपी त्रिवेदी, डॉ आरए माशेलकर, प्रोफेसर दीपक जैन, आरएस गुजराल, अरुंधति भट्टाचार्य, नीता अंबानी, निखिल मेसवानी आदि का इंट्रोडक्शन शेयर होल्डर्स से कराया।

क्या कुछ हैं Reliance Industries Limited की बड़ी घोषणाएं

सबसे पहले बता दें कंपनी के बोर्ड में भी बदलाव हुआ है। वीईपी त्रिवेदी ने बोर्ड से रिटायरमेंट लिया और सऊदी अरामको के चेयरमैन और सऊदी अरब के पब्लिक वेल्थ फंड के गवर्नर Yasir Al-Rumayyan को Reliance Industries Limited के बोर्ड में शामिल करने की घोषणा मुकेश अंबानी ने की है. दुनिया की सबसे बड़ी तेल कंपनी साउदी अरामको के साथ डील पर मुकेश अंबानी ने कहा कि सउदी अरामको के साथ इस साल पार्टनरशिप की प्रक्रिया पूरी होने की उम्मीद है।

मुकेश अंबानी ने बताया कि महामारी के बावजूद कंपनी ने इस साल शरहोल्डर्स के लिए डिविडेंड बढ़ाया है। साथ ही एक साल में 75,000 से अधिक नई नौकरियां दी हैं। हमने पिछले 1 साल में 3.24 लाख करोड़ रुपये इक्विटी कैपिटल जुटाये हैं। उन्होंने कहा कि रिलायंस का कंसोलिडेटेड रेवेन्यू करीब 5,40,000 करोड़ रुपये है। हमारा कंज्यूमर बिजनेस काफी तेजी से बढ़ा है।

अंबानी ने ग्रीन एनर्जी प्लान की घोषणा की। कंपनी जामनगर में धीरूभाई अंबानी ग्रीन एनर्जी गीगा कॉम्प्लेक्स विकसित करेगी। उनकी पहली योजना 4 गीगा फैक्टरी बनाने की है। ये प्लांट न्यू एनर्जी इकोसिस्टम से लैस होंगे। अगले तीन साल में इन फैक्टरी के निर्माण पर कंपनी 60,000 करोड़ रुपए खर्च करेगी।

उन्होंने कहा कि कोरोना के वावजूद हमने 1500 नए स्टोर खोले, जोकि देश में किसी भी रिटेल कंपनी का एक साल में अब तक का सबसे बड़ा विस्तार है। मुकेश अंबानी ने कहा कि हमने FY21 में जियो प्लेटफॉर्म और रिलायंस रिटेल के साथ rights issue और asset monetization के जरिये कुल 3.24 लाख करोड़ रुपये जुटाये हैं। हमारे Investors में दुनिया के टॉप फंड्स और कंपनियां शामिल हैं।

उन्होंने जियो को लेकर कहा कि जियो की परफॉर्मेंस बेहतर रही है। जियो पहली ऐसी कंपनी बनी है जो चीन को छोड़ दें तो किसी एक देश में 40 करोड़ से ज्यादा सब्सक्राइबर हैं। इस वजह से जियो आज दुनिया की दूसरे सबसे बड़ी मोबाइल डाटा हैंडल करने वाली कंपनी बन गई है।

ये भी पढ़ें : ठंडे हिमचाल में दिखी गर्मीं, SP कुल्लूRelianceReliance की हुई CM सेक्योरिटी गार्ड से हांथापाई

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles