प्राथमिक शिक्षक भर्ती को लेकर बड़ी लापरवाही, अब होगी ये कार्रवाई

नियमों को ताक पर रखकर शिक्षक भर्ती की गई है

UP में साल 2018 और 2019 में हुई प्राथमिक शिक्षक भर्ती को लेकर बड़ी लापरवाही सामने आई है. जिसके बाद संबंधित अधिकारियों के ऊपर कार्रवाई होना तय है. बता दें कि कुल 68500 सहायक शिक्षकों की भर्ती की गई. जिसमें आरक्षित वर्ग के ओबीसी, दिव्यांग, भूतपूर्व सैनिक / स्वतंत्रता सेनानी को अर्हक अंक में 5 प्रतिशत की छूट प्रदान करने, विनियमितीकरण की प्रक्रिया में लापरवाही बरती गयी थी. जिसके बाद अब उत्तर प्रदेश राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग ने आरक्षण नियमों को ठीक से लागू न करने की त्रुटि को स्वीकार किया है.

आरक्षण नियमों को ठीक से नहीं किया लागू

इस बारे में उत्तर प्रदेश राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष जसवंत सैनी की अध्यक्षता में बैठक आयोजित की गई. जहां उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक भर्ती 2018 एवं 2019 में आरक्षण नियमों को ठीक से लागू न करने के संदर्भ में विचार-विमर्श करके त्रुटि को स्वीकार किया गया. इसके साथ ही इस भर्ती परीक्षा में शामिल संबंधित अधिकारियों के ऊपर कार्रवाई करने की बात कही गई है.

पिछड़े वर्ग की विभिन्न जातियों में की गड़बड़ी

बता दें कि बैठक में लोध, लोधी, लोधा, लोधी राजपूत, किसान एवं खड़गवंशी लोधी नाम को पर्यायवाची मानते हुए अन्य पिछड़े वर्ग की सूची में सम्मिलित करने, पिछड़े वर्ग की विभिन्न जातियों में विभिन्न नामों के बजाय किसी एक नाम से सूचीबद्ध किये जाने, मुस्लिम मोची की उपजाति गफ्फारी को पिछड़े़ वर्ग की सूची में सम्मिलित करने, एक ही जाति के लोगों को अनेक नामों से पुकारे जाने से रोकने सम्बंधी विषयों को आयोग के समक्ष प्रस्तुत किया गया.

यह भी पढ़ें- PD Exclusive: उम्रकैद की सजा काट रहा ‘कलुआ’ बन्दर, वजह जानकर आप भी हो जाएंगे हैरान

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

Related Articles