बड़ी खबर: अब 1.2 किलो से ज्यादा भार वाले हेलमेट बेचना होगा अपराध, BIS ने बनाए नये नियम

0

नई दिल्ली: देश में अब 1.2 किलो से अधिक के हेलमेट नहीं बिकेंगे। ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड (BIS) ने भारत के लिए नए हेलमेट स्टैंडर्ड तैयार किये हैं। इन नियमों के तहत बनने वाले हेलमेट को ही बिक्री के लिए कानूनी मान्यता दी जाएगी। वहीं लोकल क्वालिटी के हेलमेट पर रोक लगाई जाएगी।

कब लागू होगा नया नियम?

भारत में इस नियम को 15 जनवरी 2019 से लागू कर दिया जाएगा। जिसके बाद भारत में हेलमेट बनाने वाली कंपनियों को इसी स्टैंडर्ड पर हेलमेट का निर्णाण करना। नए नियम के अनुसार हेलमेट का वजन 1.2 किलोग्राम होगा जो अभी तक 1.5 किलोग्राम था।

बिना ISI होलमार्क वाले हेलमेट बेचना होगा गैरकानूनी

भारत के ट्रांसपोर्ट मंत्रालय ने ऐलान किया है कि इस कानून के तहत भारतीयों को नए BIS स्टैंडर्ड पर खरा उतरने वाला हेलमेट ही यूज करना होगा। इससे लोग सिर्फ ISI मार्क वाले हेलमेट पहनकर कानून नहीं तोड़ सकेंगे। मंत्रालय ने कहा है कि बिना ISI होलमार्क वाले हेलमेट बेचना अपराध की श्रेणी में आएगा और ऐसा करने वाले को भारी जुर्माना देना होगा।

 अब इन मानकों से होकर गुजरेगा हेलमेट?

  • नई गाइडलाइन के मुताबिक, मोटरसाइकल हेलमेट की क्वालिटी को टेस्ट करने के लिए नए नियमों का बनाया गया अथवा नए स्टैंडर्ड पर टेस्टिंग का गई।
  • इस इंपेक्टअब्सॉर्प्शन टेस्ट को जोड़ा गया जिसमें कर्ब स्टोन एनविल का यूज करना, इम्पेक्ट वेलोसिटी को बढ़ाने से और हेड इंजरी के क्राइटेरिया को बढ़ाया गया ।
  • नए नियमों के लिए हेलमेट को अलग-अलग तापमान में भी टेस्ट किया गया।
  • इसके साथ ही हेलमेट की परत की घर्षण की क्षमता को परखने के लिए भी कुछ टेस्ट को जोड़ा गया, जिससे यह पता लगाया जाएगा की हेलमेट की सतह एक्सीडेंट के वक्त कितना धर्षण झेल सकती है।

सड़क दुर्घटनाओं से होने वाली मौत होंगी कम

आईएसआई हेलमेट एसोसीएशन के अध्यक्ष राजीव कपूर ने कहा कि सरकार के इस कदम से सड़क दुर्घटना से होने वाली मृत्यु दर घटेगी। साथ ही सड़क किनारे बिकने लोकल क्वालिटी के नकली हेलमेट के बेचने पर भी रोक लगाई जा सकेगी।

loading...
शेयर करें