गौरी लंकेश हत्याकांड में बड़ा खुलासा, हकीकत जान उड़ जाएंगे होश

नई दिल्ली। वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश हत्याकांड पर अभी भी जांच जारी है, लेकिन हत्या के पीछे कौन-कौन शामिल था और इसके पीछे की असल वजह क्या थी। इस बात पर संदेह बरकरार है। हालाकि जांच में एक नया खुलासा हुआ जो बेहद ही हैरान करने वाला है। फोरेंसिक रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि गौरी लंकेश की हत्या में जिस बंदूक का प्रयोग किया गया, उसी बंदूक से कर्नाटक के मशहूर तर्कवादी और लेखक एमएम कलबुर्गी को भी मौत के घाट उतारा गया था।

पीएम नरेंद्र मोदी : देश के हर नागरिक को सस्ती स्वास्थ्य…

गौरी लंकेश हत्याकांड

खबरों के मुताबिक़ गौरी लंकेश हत्याकांड में गिरफ्तार मुख्य आरोपी टी नवीनकुमार के खिलाफ दाखिल चार्जशीट के साथ लगाई गई एफएसएल रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है।

रिपोर्ट के मुताबिक, गौरी लंकेश और एमएम कुलबुर्गी की हत्या में 7।65 एमएम के देसी पिस्तौल का इस्तेमाल किया गया था।

वहीं कर्नाटक SIT ने 21 मई को दावनगिरी जिले से एक आरोपी अमोल काले को गिरफ्तार किया था, जिस पर कलबुर्गी की हत्या में शामिल होने का भी आरोप है।

जम्‍मू-कश्‍मीर में राजनाथ, फिर हुआ कुछ ऐसा कि गुस्‍से से तिलमिला…

कलबुर्गी की हत्या की जांच कर रही एसआईटी का कहना है कि कलबुर्गी का दरवाजा खटखटाने वाले दो आरोपियों में अमोल काले भी शामिल था।

इससे पहले पुलिस ने मुख्य आरोपी नवीन कुमार का बयान दर्ज किया। नवीन कुमार की पत्नी का बयान भी लिया गया है।

उसकी पत्नी ने स्वीकार किया है कि नवीन कुमार हिंदुत्ववादी संगठन सनातन संस्था से जुड़ा रहा है और उसे भी सनातन संस्था के कार्यक्रमों में ले जाता था।

नवीन की पत्नी ने अपने बयान में कहा है कि गौरी लंकेश की हत्या से एक दिन पहले अचानक नवीन घर आया और उसे मंगलुरू में सनातन आश्रम लेकर चला गया था।

बता दें कि गोरी लंकेश मर्डर केस में कर्नाटक पुलिस ने तीन दिन पहले 30 मई को चार्जशीट दाखिल कर दी है, जिसमें पुलिस भी इस नतीजे पर पहुंची है कि हिंदू धर्म की आलोचना के चलते ही गौरी लंकेश की हत्या की गई थी।

चार्जशीट में केटी नवीन कुमार को मुख्य आरोपी बनाया गया है। इसके साथ ही प्रवीन कुमार को भी आरोपी बनाया गया है, जो कि फिलहाल फरार है। करीब 600 पेज की इस चार्जशीट में 100 लोगों के नाम बतौर गवाह दर्ज है। हालांकि 600 पेज की इस चार्जशीट के 110 पेज सार्वजनिक नहीं किए गए हैं।

पहले नहीं हैं प्रणब मुखर्जी, ये कांग्रेसी दिग्‍गज भी जा चुके…

जानकारों के मुताबिक़ यह आशंका जताई जा रही है कि वो 110 पेज जिनकी जानकारी सार्वजनिक नहीं की गई, उन्ही में गौरी लंकेश की हत्या की मूल वजह और साजिश का पूरा ब्योरा दर्ज है। इतना ही नहीं पुलिस ने मुख्य आरोपी नवीन कुमार के बयान पर भी अभी तक पर्दा डाल रखा है।

खबरों की मानें तो गौरी लंकेश की हत्या के पीछे की मूल वजह उनके द्वारा लिखे गए हिंदू विरोधी लेखों को बताया जा रहा है।

एक समाचार चैनल की जानकारी के अनुसार इस बात का दावा किया जा रहा है कि पुलिस चार्जशीट में जिन 110 पन्नों की जानकारी को गुप्त रखा गया है, उनमें इस बात का जिक्र है कि हिंदू धर्म की तीखी आलोचनाओं के कारण ही हिंदू कट्टरपंथीयों ने इस घटना को अंजाम दिया।

चार्जशीट में हुए खुलासे में अहम बात यह है कि गौरी लंकेश की हत्या की साजिश में नवीन कुमार की बराबर से भागीदारी बताई जा रही है। साथ ही इस बात का भी जिक्र किया गया कि इस हत्या के लिए पूरा प्लान बेंगलुरु के विजयनगर में स्थित बीबीएमपी पार्क में तैयार किया गया।

Related Articles