IPL
IPL

ब्रिटिश अदालत में नीरव मोदी को लगा बड़ा झटका, भारत लाने में अब नहीं होगी देरी!

नई दिल्ली: भारत में धोखाधड़ी करने वाले भगोड़े कारोबारी नीरव मोदी (Nirav Modi) को ब्रिटिश अदालत में बड़ा झटका लगा है। नीरव मोदी (Nirav Modi) की याचिका को लंदन की एक कोर्ट ने खारिज कर दिया है और उसे भारत को प्रत्यर्पित करने की मंजूरी दी है। इस फैसले के बाद से अनुमान लगाया जा सकता है कि हीरा कारोबारी नीरव मोदी को भारत लाने में ज्यादा देरी नहीं होगी है। नीरव मोदी ने अपने मामा मेहुल चौकसी के साथ मिलकर पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) में 14 हजार करोड़ रुपए से अधिक का घोटाला किया था। आखिर कार ऐसा लगता है कि भारतीय एजेंसियों की कार्यप्रणाली में बदलाव हुआ है? क्योंकि इससे पहले तक यूके से भगोड़े भारतीयों को वापस लाने में एजेंसियों को सिर्फ झटके ही मिलते रहे हैं।

कोर्ट ने भारत की दलीलों को किया स्वीकार

इस मामले में सीबीआई को बड़ी सफलता मिली है। सीबीआई के वरिष्ठ अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया है कि नीरव मोदी के मामले में लगातार दबाव बनाए रखा गया। सीबीआई के अडीशनल डायरेक्टर प्रवीण सिन्हा यूके गए थे और कोर्ट की सुनवाई में मौजूद रहे। ज्वाइंट डायरेक्टर अनुराग की अगुवाई वाली टीम ने सुनिश्चित किया कि नीरव मोदी के खिलाफ सभी सबूत यूके की एजेंसी को मुहैया कराए जाएं। लंदन की एक कोर्ट ने भारत की दलीलों को स्वीकार करते हुए नीरव के प्रत्यर्पण का आदेश दिया है। इसके आगे कोर्ट ने कहा है कि नीरव मोदी के खिलाफ पर्याप्त सबूत के आधार पर वो दोषी साबित हो सकता है।

ये भी पढ़ें : ममता बनर्जी ने गले में लटकाया महंगाई का पोस्टर, ई-स्कूटी से पहुंची सचिवालय

लंदन की एक जेल में है बंद

49 वर्षीय नीरव मोदी फिलहाल लंदन की एक जेल में अभी बंद है। अदालत का तो फैसला आ चुका है लेकिन अब इसे ब्रिटेन की गृह मंत्री प्रीति पटेल के पास हस्ताक्षर के लिए भेजा जाएगा। हलाकि मोदी के पास अभी हाई कोर्ट में अपील करने का अधिकर है। आपको बता दें कि नीरव मोदी के दक्षिण-पश्चिम लंदन स्थित वॉन्ड्सवर्थ जेल से वीडियो लिंक के माध्यम से वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट अदालत में पेश हुए।

ये भी पढ़ें : रैली को नहीं मिली इजाजत तो असदुद्दीन ओवैसी का फूटा  गुस्सा, TMC को बनाया निशाना

कोर्ट ने याचिका खारिज की

जिला न्यायाधीश सैमुअल गूजी ने फैसला सुनाते हुए कहा है कि नीरव मोदी मानसिक स्वास्थ्य को लेकर याचिका डाली थी और इस मुद्दे को खारिज कर दिया। कोर्ट ने कहा कि सेंट्रल एजेंसी ने महाराष्ट्र के गृह मंत्रालय से बात कर मुंबई के ऑर्थर रोड जेल का12 नंबर बैरक का वीडियो बनवाया है और कहा है कि नीरव मोदी के लिए यह फिट है।कहा गया है कि नीरव मोदी को भारत लाने के बाद इसी जेल में रखा जाएगा। विजय माल्या के केस में भी इसी वीडियो को दिखाया गया।

 

Related Articles

Back to top button