मध्य प्रदेश की सियासत में बड़ा उलटफेर, राज्य में दोबारा कमलनाथ की वापसी?

Bhopal: मध्य प्रदेश की सियासत में कांग्रेस बड़ा उलटफेर करने वाली है, पूर्व सीएम कमलनाथ ने अपने दो दिवसीय ग्वालियर दौरे के दौरान पत्रकारों से चर्चा में कहा कि उनका प्रयास होगा कि ग्वालियर अंचल प्रदेश ही नहीं देश में भी अपनी पहचान बनाएं। उन्होंने यह भी कहा कि उपचुनाव यह तय करेंगे कि राज्य किस पटरी पर चलेगा तथा इस उपचुनाव से प्रदेश के युवाओं का भी भविष्य तय होगा। उन्होंने कहा कि हमने अपनी 15 महीने की सरकार में अपनी नीति और नीयत का परिचय दिया। उन्हें इसके लिए किसी भाजपा नेताओं का सर्टिफिकेट नहीं चाहिये, जनता इसकी गवाह है।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा उनसे 15 माह का हिसाब मांग रही है। पहले वह तो 15 सालों का हिसाब दें। उन्होंने भाजपा सरकार के कार्यकाल के दौरान आयोजित हुयीं इन्वेस्टर्स मीट पर निशाना साधा और कहा कि कितनी इन्वेस्टर्स समिट हुईं। लाखों करोड़ों के निवेश के वादे किए गए, दावे किए गए, पर निवेश नहीं आया। उन्होंने कहा कि निवेश लाने के लिए विश्वास का माहौल पैदा करने की आवश्यकता होती है।

मध्य प्रदेश: कमलनाथ सरकार पडले, खलनायक कोण ठरले? कमलनाथ, ज्योतिरादित्य सिंधिया, शिवराज सिंह चौहान की दिग्विजय सिंह? | 🗳️ LatestLY मराठी

उन्होंने कहा कि हमने प्रदेश के 26 लाख किसानों का कर्ज माफ किया, लेकिन भाजपा इसको लेकर असत्य बयानबाजी कर प्रदेश की जनता को गुमराह करने का प्रयास कर रही है, जो अब चलने वाला नही है। उन्होंने भाजपा नेताओं से कहा कि वे आमने- सामने बैठ जाये, वह उन्हें 26 लाख किसानों के नाम, उनके गांव का नाम, माफ़ क़र्ज़ की राशि का रिकार्ड उपलब्ध कराने को तैयार हैं।

कमलनाथ ने कहा कि ग्वालियर-चंबल की राजनीति और विकास पर अभी तक ज्यादा दखल नहीं दिया पर अब परिस्थितियां बदल गई है और ऐसे में ग्वालियर-चंबल का विकास उनकी प्राथमिकता रहेगी। हम ग्वालियर- चम्बल का सर्वांगीण विकास करेंगे। यह चुनाव प्रदेश के साथ ही ग्वालियर-चंबल के भविष्य का चुनाव है। उनका प्रयास रहेगा कि हम ग्वालियर-चंबल में विकास कार्य में एक नया इतिहास बनाएं।

इसे भी पढ़े :मध्य प्रदेश की नौकरियां स्थानीय युवाओं के लियें होगी रिजर्व,शिवराज सिंह का बड़ा फैसला

Related Articles

Back to top button