बिहार विधानसभा चुनाव: नीतीश कुमार ने खेला आबादी के आधार पर आरक्षण देने का दांव

नीतीश कुमार ने आबादी के आधार पर आरक्षण देने की तरफदारी करते हुए कहा कि उनका हमेशा से यही मानना रहा है कि प्रत्येक जाति को उनकी जनसंख्या के आधार पर आरक्षण मिलना चाहिए।

पटना: बिहार विधानसभा चुनाव में प्रत्येक पार्टी जनता को लुभाने का हर मुमकिन हथकंडा अपना रही है। हर नेता इस कोशिश में लगा है कि कैसे वो जनता का वोट अपनी तरफ कर सकें। अब इस कड़ी में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक और दांव खेला है।

वाल्मिकीनगर में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए नीतीश कुमार ने बिहार की जनता को आबादी के आधार पर आरक्षण देने की बात कह दी। अपने भाषण में उन्होनें कहा कि जनगणना उनके हाथ में नही है पर वो जनता को उनकी आबादी के हिसाब से आरक्षण देना चाहते हैं।

यह भी पढ़ें- गुजरात में पीएम मोदी का दो दिवसीय दौरा, पहली सी-प्लेन सेवा का करेंगे उद्घाटन

आबादी के आधार पर आरक्षण नीतीश की प्राथमिकता

नीतीश कुमार ने आबादी के आधार पर आरक्षण देने की तरफदारी करते हुए कहा कि उनका हमेशा से यही मानना रहा है कि प्रत्येक जाति को उनकी जनसंख्या के आधार पर आरक्षण मिलना चाहिए। अपनी बात में मुख्यमंत्री ने कहा कि वो हमेशा से इस आरक्षण को लाने की कोशिश करते रहे हैं।

नीतीश कुमार ने कहा कि जब वो अटल की सरकार में रेल मंत्री थे तब से ही वो थारू को आरक्षण दिलाने की कोशिश में लगे हैं। बिहार के मुख्यमंत्री ने अपनी बात में यह भी कहा कि बिहार के हर घर में उन्होनें बिजली पहुंचाई है। यदि इस बार वह फिर से सत्ता में आते हैं तो हर गांव में सोलर स्ट्रीट लाइट लगवायेंगे ताकि घर की बत्ती बुझने के बाद भी गांव रोशनी में रहे।

वाल्मीकिनगर में थारू जाति की अधिक जनसंख्या

दरअसल वाल्मीकिनगर में थारू जाति के लोग अधिक मात्रा में है तो जाहिर है कि इस क्षेत्र के चुनाव में इनका वोट अधिक महत्व रखता है। थारू जाति के लोग खुद को जनजाति में शामिल करने की मांग उठा रहे हैं। थारू जाति ने वाल्मीकिनगर चुनाव प्रचार में नीतीश कुमार के सामने उनकी जाति को आरक्षण देने की बात कही।

नीतीश कुमार ने आरजेडी पर भी निशाना साधते हुए कहा कि 1990 से 2005 के बीच 15 सालों तक सत्ता में रहने के बाद भी इन्होनें बिहार की जनता को केवल 95,000 नौकरियां मुहैया कराई जबकि हमारे कार्यकाल में हमने 6 लाख से भी अधिक रोजगार जनता को उपलब्ध कराए। नीतीश कुमार ने कानून व्यवस्था से लेकर घोटालों के मुद्दों को उठाते हुए लालू यादव को फिर से घेरा।

यह भी पढ़ें- अमेरिकी चुनावः इन मापदंडो पर अगला राष्ट्रपति चुनेगी अमेरिका की जनता

Related Articles

Back to top button