बिहार: पंचायत चुनाव के दौरान औरंगाबाद में मतदान केंद्र पर हुई फायरिंग

पटना: बिहार के औरंगाबाद में आज से पंचायत चुनाव के पहले चरण के शुरू होने के साथ ही बसैनी गांव के बूथ संख्या 144 और 145 पर जिले से गोलीबारी की खबर सामने आने लगी है। चुनाव अधिकारियों ने दावा किया कि फायरिंग बूथों पर कब्जा करने और एक विशेष उम्मीदवार के पक्ष में फर्जी मतदान करने के लिए की गई। फायरिंग में किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है।

आज हुआ पहले चरण का चुनाव

बूथ पर मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने स्थिति को नियंत्रित करने में कामयाबी हासिल की, घटना के बाद कतार में लगे कई मतदाता भाग खड़े हुए। छिटपुट घटनाओं को छोड़कर इन सभी जिलों में शांतिपूर्ण मतदान दर्ज किया गया। कुछ जगहों से ईवीएम खराब होने की शिकायतें मिली थीं। पथराव और हवाई फायरिंग की सूचना मिलने के बाद कुछ देर के लिए मतदान प्रक्रिया बाधित रही।

घटना की सूचना मिलते ही SDM व CDPO बूथ पर पहुंचे और पथराव व फायरिंग में शामिल पांच लोगों को हिरासत में ले लिया। 10 जिलों की 151 पंचायतों के लिए पहले चरण का मतदान अभी चल रहा है। ये सभी जिले औरंगाबाद, रोहतास, जमुई, अरवल, गया, कैमूर, नवादा, बांका, जहानाबाद और मुंगेर जैसे नक्सल प्रभावित जिले हैं।

बिहार चुनाव आयोग के एक अधिकारी के मुताबिक, ईवीएम का इस्तेमाल पंचायत सदस्य, मुखिया, पंचायत समिति सदस्य और जिला परिषद सदस्य जैसे चार पदों पर मतदान के लिए किया जा रहा है। पंच और सरपंच के मतदान के लिए मतपेटी का उपयोग किया जा रहा है। राज्य चुनाव आयोग ने 10 जिलों में शांतिपूर्ण मतदान के लिए सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया है। कुल 156 मतदान केंद्र नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के अंतर्गत आते हैं।

यह भी पढ़ेँ: IPL 2021 का ‘महामुकाबला’: विराट, माही के बीच कौन मरेगा बाज़ी

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)..

Related Articles