बिहार का कृषि विकास माॅडल देश के लिए नजीर है: जदयू

जदयू के प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने आज कहा कि कृषि सुधार की दिशा में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में किए गए अभूतपूर्व कार्यों के कारण बिहार का विकास दर देश के राष्ट्रीय औसत से कई ज्यादा है।

पटना: बिहार में सत्तारूढ़ जनता दल यूनाइटेड जदयू ने दावा किया कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में बिहार ने कृषि सुधार की दिशा में अभूतपूर्व कार्य किया है और उसका कृषि विकास मॉडल देश के लिए नजीर है।

जदयू के प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने आज कहा कि कृषि सुधार की दिशा में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में किए गए अभूतपूर्व कार्यों के कारण बिहार का विकास दर देश के राष्ट्रीय औसत से कई ज्यादा है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पूरे देश को सामाजिक एवं आर्थिक सुधारों के जरिए यह संदेश दिया है कि साफ नीयत एवं सही नेतृत्व से कोई भी सपना धरातल पर उतारा जा सकता है।

प्रसाद ने कहा कि 2005 से सत्ता संभालने के बाद मुख्यमंत्री ने बिहार के विकास को गति देने के लिए कई नीतिगत एवं आर्थिक बदलाव किए। कृषि क्षेत्र में सुधार के लिए 2006 में एपीएमसी एक्ट को समाप्त कर दिया ताकि किसान अपना उत्पाद कही भी बेचने के लिए स्वतंत्र हो। इसका नतीजा यह हुआ कि कृषि के क्षेत्र में बिहार का विकास दर जहाँ 2001-05 के बीच के 1 प्रतिशत से भी कम था वह 2005-06 से 2014-15 के बीच बढ़ कर 4.7 प्रतिशत हो गया जबकि राष्ट्रीय औसत मात्र 3.6 प्रतिशत था। कृषि के क्षेत्र में बिहार का विकास दर पिछले 5 वर्षों में औसतन 7 प्रतिशत है जबकि राष्ट्रीय औसत 2 प्रतिशत के करीब है। वहीँ 2017-18 में बिहार के कृषि आधारित उद्योगों का विकास दर 19.2 प्रतिशत जबकि राष्ट्रीय औसत 3.6 प्रतिशत था।

यह भी पढ़े:

Related Articles