दिसंबर में सऊदी अरब के साथ द्विपक्षीय समझौता, कोविड-19 के कारण हज दरें बढ़ेंगी: नकवी

मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा है कि भारत और सऊदी अरब के बीच द्विपक्षीय समझौता दिसंबर में होने की संभावना है और कोरोना वायरस (कोविड-19) के प्रसार को रोकने के दिशानिर्देशों की अनदेखी के मद्देनजर हज-2021 के जायरीनों के लिए यात्रा दरें बढ़ाई जाएंगी।

श्रीनगर: केन्द्रीय अल्पसंख्यक मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा है कि भारत और सऊदी अरब के बीच द्विपक्षीय समझौता दिसंबर में होने की संभावना है और कोरोना वायरस (कोविड-19) के प्रसार को रोकने के दिशानिर्देशों की अनदेखी के मद्देनजर हज-2021 के जायरीनों के लिए यात्रा दरें बढ़ाई जाएंगी।

नकवी ने कहा कि दिसंबर में सऊदी अरब के साथ द्विपक्षीय समझौता यह स्पष्ट करेगा कि हज 2021 के लिए भारत के हिस्से में कितनी सीटें आयेंगी। वर्ष 2019 में भारत से कम से कम दो लाख लोग हज यात्रा पर गए थे। उन्होंने कहा कि वर्ष 2020 में 3000 से अधिक महिलाओं ने बिना महरम के आवेदन किया था और उन्हें 2021 में हज पर जाने की अनुमति दी जाएगी।

केन्द्रीय मंत्री ने कहा, “हज सऊदी अरब में आयोजित किया जाएगा। इसलिए हमें सऊदी अरब सरकार द्वारा जारी दिशानिर्देशों का पालन करना होगा। दिशानिर्देशों के अनुसार एक कमरे में दो से तीन लोग रह सकेंगे जहां इससे पहले सात से आठ लोग रहा करते थे। बस जिसमें 45 लोग सवार हुआ करते थे अब केवल उस बस में 20 लोग ही सवार होंगे। इसके अलावा हज 2021 में कई अन्य चीजें है जिनका पालन किया जाएगा।”

उन्होंने कहा इन परिस्थतियों में दरों का बढ़ना स्वाभाविक होगा। उन्होंने कहा कि सउदी सरकार के साथ द्विपक्षीय समझौता दिसम्बर में होने की संभावना है और तभी स्पष्ट हो सकेगा कि भारत का कोटा कितना हो सकता है।

नकवी ने कहा कि हज 2020 के लिए भारत और सउदी अरब के बीच समझौते पर हस्ताक्षर एक दिसंबर 2019 को हुए थे जो दोनों देशों के बीच के संबंधों के लिए मील का पत्थर साबित होगा। मक्का के लिए वार्षिक इस्लामी यात्रा (हज यात्रा) पूरी तरह से डिजिटल प्रक्रिया के जरिये होगी। हज 2020 हालांकि कोरोना महामारी फैलने के कारण रद्द की गयी थी।

हज-2021 करने वाले यात्रियों की आयु सीमा के बारे में नकवी ने कहा कि सऊदी अरब की ओर से अन्य स्वास्थ्य प्रोटोकॉल सहित दिशानिर्देशों को लागू किया गया है। उन्होंने कहा कि सऊदी सरकार ने उमराह के लिए उम्र सीमा 65 कर दी है। उन्होंने कहा कि इसके अलावा अन्य स्वास्थ्य प्रोटोकाॅल है जिनका अनुसरण करने की आवश्यकता है जैसे कोविड-19 परीक्षण यात्रा शुरू होने से 72 घंटे पहले कराना जरूरी है।

केन्द्रीय मंत्री ने हालांकि यह उम्मीद जताई है कि हज 2021 से पहले कोरोना वैक्सीन उपलब्ध हो जाएंगी ताकि यह प्रक्रिया बिना किसी बाधा के चल सके। उन्हें उम्मीद है कि अगर उस समय रहते कोविड-19 वैक्सीन बाजारों में आ जाएगी तो सब कुछ ठीक हो जाएगा।

इसे भी पढ़े: कोरोना काल में छोड़े गए कैदी अगर नहीं हुए हाजिर तो होगी कार्रवाई

Related Articles