IPL
IPL

Bird Flu: मंडी के व्यापारियों का दावा, करोड़ों रुपये का हुआ नुकसान

नई दिल्ली: दिल्ली स्थित गाजीपुर मंडी भले ही 5 दिन बंद रहने के बाद खुल चुकी हो, लेकिन इस दौरान मंडी को करोड़ों रुपये का नुकसान उठाना पड़ा है। मंडी के व्यापारियों का दावा है कि यह सबसे बड़ी मंडी इस तरह पहली बार बंद हुई है और यहां से हर दिन करीब 4 लाख मुर्गो का व्यापार होता है। यहां की मुर्गा मंडी में हर दिन करीब 100 गाड़ियां आती हैं। हर गाड़ी में करीब 3 से साढ़े 3 लाख रुपये का तक माल होता है।

करोड़ों रुपयों का हुआ नुकसान

गाजीपुर होलसेल पोल्ट्री एसोसिएशन के अध्यक्ष सलाउद्दीन ने बताया, “हर दिन 100 गाड़ी माल आता है और हर गाड़ी करीब 3 लाख रुपये की होती थी। इसमें सरकार का टैक्स, हमारी कमाई, मजदूर की तनख्वाह शामिल हैं।” उन्होंने कहा कि इन गाड़ियों के हिसाब से जोड़ें तो करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ है। मंडी 5 दिन बंद रही, साथ ही अफवाहों का व्यापार पर अलग असर हुआ।

सलाउद्दीन ने आगे कहा, “किसानों को भी इसका नुकसान है और मंडी बंद होने से एक गलत संदेश गया। जिन लोगों ने पहले चिकन के ऑर्डर दिए थे, वे अब आकर उन्हें कैंसल भी कर रहे हैं, हमारे लिए तो ये भी नुकसान है।”  सलाउद्दीन ने कहा, “सरकार ने जब मंडी को खोलने का आदेश दे दिया है तो मेरी ये गुजारिश है कि सरकार अब थोड़े नियम बनाए। मंडी में तो मुर्गो की जांच होती है, लेकिन जो बाहर खुले में मुर्गो का व्यापार करते हैं, उनकी जांच होनी चाहिए और उनसे पूछा जाए और मंडी की पर्ची देखें। इससे दिल्ली की जनता को भी सुरक्षित माल जाएगा।”

बता दें कि देश के कई राज्यों में बर्ड फ्लू के मामले सामने आने और बर्ड फ्लू की आशंका को देखते हुए 9 जनवरी को सबसे बड़ी मंडी को बंद करने के आदेश दिए। गाजीपुर मंडी में कुल 88 दुकानें मौजूद हैं और मंडी से रैंडम सैंपल भेजे गए थे, जिनकी रिपोर्ट नेगेटिव आई। इसके बाद दिल्ली सरकार ने 14 जनवरी को मंडी खोलने का आदेश दिया था।

यह भी पढ़ें: शार्दुल ठाकुर ने कहा, ‘हमारी योजना आस्ट्रेलियाई गेंदबाजों को थकाने की थी’

Related Articles

Back to top button