78 साल के पुरे हुए महानायक, बॉलीवुड के शहंशाह कहे जाने वाले अमिताभ बच्चन का जन्मदिवस

 

 बॉलीवुड के शहंशाह
बॉलीवुड के शहंशाह

मुम्बई: अमिताभ बच्चन का जन्म 11 अक्टूबर सन 1942 में उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद जिले में हुआ था. आज ये 78 वर्ष के पूर्ण हो चुके है इनकी माता का नाम तेज़ी बच्चन तथा पिता का नाम हरिवंशराय बच्चन था. अमिताभ बच्चन का पूरा नाम अमिताभ हरिवंश राय बच्चन है इनका विवाह अभिनेत्री जया भादुड़ी से हुआ.

अमिताभ बच्चन बॉलीवुड के सबसे लोकप्रिय अभिनेता हैं सन 1970 के दशक के दौरान उन्होंने बड़ी लोकप्रियता प्राप्त की और तब से भारतीय सिनेमा के इतिहास में सबसे प्रमुख व्यक्तित्व बन गए. बच्चन ने अपने करियर में कई पुरस्कार जीते हैं, जिनमें तीन राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार और बारह फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार शामिल हैं। उनके नाम सर्वाधिक सर्वश्रेष्ठ अभिनेता फिल्मफेयर अवार्ड का रिकार्ड है.

अभिनय के अलावा बच्चन ने पार्श्वगायक, फिल्म निर्माता और टीवी प्रस्तोता और भारतीय संसद के एक निर्वाचित सदस्य के रूप में 1984 से 1987 तक भूमिका निभाई हैं. इन्होंने प्रसिद्द टी.वी. शो “कौन बनेगा करोड़पति” में होस्ट की भूमिका निभाई है. जो की बहुत चरचित और सफल रहा.

उत्तर प्रदेश, इलाहाबाद में जन्मे अमिताभ बच्चन के पिता, डॉ॰ हरिवंश राय बच्चन प्रसिद्ध हिन्दी कवि थे, जबकि उनकी माँ तेजी बच्चन कराची से संबंध रखती थीं. आरंभ में बच्चन का नाम इंकलाब रखा गया था जो भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के दौरान प्रयोग में किए गए प्रेरित वाक्यांश इंकलाब जिंदाबाद से लिया गया था. लेकिन बाद में इनका फिर से अमिताभ नाम रख दिया गया जिसका अर्थ है, “ऐसा प्रकाश जो कभी नहीं बुझेगा”

अमिताभ बच्चन को ‘फिल्म फेयर पुरस्कार’, राष्ट्रीय पुरस्कार, ‘पदमश्री’ आदि सम्मान प्राप्त हो चुके हैं. साथ ही विश्व स्तर पर सर्वेक्षण से प्राप्त निष्कर्ष के आधार पर अमिताभ को ‘मिलेनियम ऑफ दि स्टार’ से भी सुशोभित किया गया है. वे सन 1985 में इलाहाबाद से लोक सभा के लिए चुने गए थे।

फ़िल्मी करिअर :

शुरू में अमिताभ के लिए चीजे आसान थी क्योंकि इन्हें फिल्मो की दुनिया में आने के लिए किसी भी तरह की दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ा और इसकी वजह है अमिताभ की राजीव गाँधी से मित्रता होना क्योंकि इसी वजह से इंदिरा गाँधी के हाथ का लिखा सिफारिशी ख़त की वजह से उन्हें के ए अब्बास की फिल्म “ सात हिन्दुस्तानी “ में आराम से काम करने का मौका मिल गया.

हम यह कह सकते है कि ऐसा तो है कि अमिताभ ने अपने टैलेंट और अभिनय के दम पर इंडस्ट्री में बादशाह का मुकाम हासिल किया हो या किसी और भी पैमाने पर अमिताभ को हम महान कह सकते है| हालाँकि अमिताभ ने फिल्मो में दुनिया में अपना हाथ अजमाने से पहले एक शिपिंग कम्पनी में नौकरी की थी और बाद में इनके माँ के द्वारा उत्साहित करने के बाद ये नौकरी छोडके मुंबई आ गये थे | वंहा इन्हें काम करने के लिए 800/- रूपये / महीना वेतन मिलता था |

अमिताभ जी ने अभिमान, कभी कभी, अग्निपथ, शराबी, नमक हलाल जैसी सुपरहिट फ़िल्में दी. अमिताभ जी ने अपने फ़िल्मी करियर में बहुत उतार चढ़ाव देखे, शुरुवात में उनको देख कर सब यही कहते थे कि इतना लम्बा, दुबला पतला लड़का कुछ नहीं कर सकता। उनकी आवाज को लेकर भी लोग बोलते थे, और आज वही आवाज देश की आवाज बन गई, एक्टिंग के अलावा अमिताभ जी ने कई फिल्मों में सूत्रधार की भूमिका निभाई है.

इसके अलावा अमिताभ जी ने कई फिल्मों में गाने भी गाये है. 1984 से 1987 तक अमिताभ जी ने पॉलिटिक्स में राजीव गाँधी के साथ खड़े रहे| इसके बाद वे फिल्मों में आये और 1990 में अग्निपथ के साथ नेशनल अवार्ड जीता। इसके बाद अमिताभ जी ने प्रोडक्शन हाउस खोला, और कुछ फ़िल्में भी की लेकिन ये सब फ्लॉप होती गई, इस समय तीनों खान का बोल बाला था. जिसके चलते अमिताभ जी ने फिल्मों से दुरी ही बना ली|

1970 के दशक से 1980 के दशक की शुरुवात तक अमिताभ बच्चन 100 से अधिक फिल्मों में दिखाई दिये. उस समय हर निर्देशक उनके साथ काम करना चाहता था जिसमे एक निर्देशक प्रकाश मेंहरा भी थे. 1982 में कुली फिल्म की शूटिंग के दौरान एक गंभीर दुर्घटना हो गई थी जिसमे अमिताभ बच्चन के पेट में अंदरूनी चोट आई और वो जिंदगी और मौत के बीच झूल रहे थे. उस समय उनके प्रशंसकों ने उनके ठीक होने के लिए प्रार्थना की. बच्चन दुर्घटना में बच गए.

पुरस्कार:

1) पद्म भूषण
2) फिल्म फेयर पुरस्कार
3) राष्ट्रीय पुरस्कार
4) पदमश्री

यह भी पढ़े: IPL 2020: केकेआर को लग सकता है बड़ा झटका, नारायण पर लग सकता है बैन

Related Articles