IPL
IPL

महान स्वतंत्रता सेनानी का जन्मदिन, क्रांतिकारियों ने लिया मौत का बदला

भारत के प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी लाला लाजपत राय ( Lala Lajpat Rai ) का आज जयंती है।

नई दिल्ली: भारत के प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी लाला लाजपत राय ( Lala Lajpat Rai ) का आज जयंती है। पंजाब में उनके कामों की वजह से उन्हें ‘पंजाब केसरी’ के नाम से पुकारा गया। इन्होंने पंजाब नेशनल बैंक ( Punjab National Bank ) और लक्ष्मी बीमा कंपनी की स्थापना भी की थी। ये भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में गरम दल के नेता के रुप में भी शामिल थे।

लाला लाजपत राय ने आर्य समाज को पंजाब में लोकप्रिय बनाने का काम किया। जिसमें स्वामी दयानंद सरवस्ती ने उनका भरपूर साथ दिया था। जब देश में अकाल पढ़ती थी तो उस समय में भी लालाजी ने अलग-अलग जगह पर शिविर लगाकर लोगों की सेवा करने का भी काम किया था।

30 अक्टूबर 1928 में लालाजी ने लाहौर में साइमन कमीशन के विरुद्ध चल रहें एक विशाल प्रदर्शन में शामिल हुए। उस प्रर्दशन में हुए लाठी चार्ज के दौरान ये बुरी तरह घायल हो गए थे और इन्ही चोटों के वजह से 17 नवंबर 1928 को उनकी देहान्त हो गई।

लालाजी की मौत का बदला

लाला लाजपत राय की मौत की खबर पूरे देश में तेजी से फैलने लगी इस खबर की भनक लगते ही क्रांतिकारियों ने बदला लेने का निर्णय कर लिया। लालाजी की हत्या के ठीक एक महीने बाद महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आज़ाद, भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव व अन्य देशभक्तों ने मिलकर अपने प्रिय नेता की मौत का बदला लेने के लिए 17 दिसम्बर 1928 को ब्रिटिश पुलिस के अफ़सर सांडर्स को गोली से उड़ा दिया। सांडर्स की हत्या करने के मामले में ही इन चारों देशभक्तों को ब्रिटिश प्रशासन के द्वारा फांसी की सजा सुनाई गई थी।

यह भी पढ़ें: Syed Mushtaq Ali Trophy 2021: इन चार टीमों को मिला सेमीफाइनल का टिकट

Related Articles

Back to top button