IPL
IPL

महीने के अंत में Bitcoin का हुआ बुरा हाल, जानें कितना हुआ नुकसान

नई दिल्ली: दुनिया की सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी बिटक्वाइन (Bitcoin) के लिए फरवरी महीने का अंतिम दिन सबसे खराब रहा है, जैसे लगता है इसको किसी की नजर लग गई है। पिछले महीने के पहले हफ्ते में यानि 8 फरवरी को बिटक्वाइन (Bitcoin) ने तेजी से रफ्तार पकड़ी थी उस समय इसका भाव करीब 60 हजार डॉलर के पास पहुंच गया था। लेकिन महीने के अंतिम दिन 28 फरवरी रविवार को सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया है। अब तक शुक्रवार से इसमें 3.7 फीसदी की गिरावट आ चुकी है। इस साल की शुरुआत से 70 फीसदी तक बढ़ गई है।

एक सप्ताह पहले बढ़ा था रिकॉर्ड

मेनस्ट्रीम निवेश और पेमेंट व्हीकल ने एक सप्ताह पहले 58,354.14 डॉलर के रिकॉर्ड स्तर पर छू रहा था। एक साल पहले इसकी एक यूनिट की कीमत 10 हजार डॉलर थी। इलेक्ट्रिक कार बनाने वाली अमेरिकी कंपनी टेस्‍ला ने पिछले कुछ दिनों पहले क्रिप्टोकरेंसी बिटक्वाइन में निवेश किया तो इसका रिकॉर्ड तेजी से बढ़ रहा था। इसके अलावा इंश्योरंस कंपनी मास-म्यूचुअल, ऐसेट मैनेजर गैलेक्सी डिजिटल होल्डिंग, ट्विटर के सीईओ जैक डोरसी की पेमेंट कंपनी स्क्वॉयर ने भी बिटक्वाइन में बड़ा निवेश किया है, जिसके कारण इसकी कीमतें में काफी उछाल आई हैं।

ये भी पढ़ें : आज छत्तीसगढ़ का बजट होगा पेश, इस सेक्टर को मिल सकता बड़ा तोहफा 

कैसे आई बिटक्‍वाइन में तेज उछाल ?

पिछले हफ्ते टेस्ला ने बताया था कि कंपनी बिटक्‍वाइन में 1.5 अरब डॉलर की खरीदारी कर रही है इसके अलावा यह भी कहा था कि कंपनी जल्द ही अपने प्रोडक्‍ट्स की खरीदारी पर बिटक्‍वाइन के माध्यम से भुगतान करने की जल्‍द मंजूरी देने की योजना बनाएगी। इससे बिटक्‍वाइन में तेज उछाल दर्ज किया गया। इसके बाद वर्जीनिया के ब्लू रिज बैंक ऑफ शर्लोविला ने बताया वह पहला कमर्शियल बैंक बनेगा, जो अपनी शाखाओं पर बिटक्‍वाइन का एक्सेस उपलब्ध कराएगा।

ये भी पढ़ें : बड़े विवादों में फंसी हॉलीवुड अभिनेत्री, इस कारण फिल्म से निकाला गया बाहर

Related Articles

Back to top button