IPL
IPL

BJP 41st Foundation Day: विरोधियों पर गरजे PM मोदी, बोले- ‘बीजेपी चुनाव जीतने की मशीन नहीं’

भारतीय जनता पार्टी (BJP) आज अपना 41 वां स्थापना दिवस मना रही है, इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा के कार्यकर्ताओं को संबोधित किया है

नई दिल्ली: देश के कई राज्यों में सियासी सत्ता चलाने वाली भारतीय जनता पार्टी (BJP) आज अपना 41 वां स्थापना दिवस मना रही है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा के कार्यकर्ताओं को संबोधित किए हैं। दिल्ली में BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा ने पार्टी मुख्यालय में डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी (Dr. Shyama Prasad Mukherjee) और पंडित दीनदयाल उपाध्याय (Pandit Deendayal Upadhyay) को श्रद्धांजलि की अर्पित की हैं।

श्यामाप्रसाद मुखर्जी द्वारा निर्मित

भारतीय जनता पार्टी (BJP)  भारत का एक प्रमुख राजनीतिक दल है। 2016 के अनुसार भारतीय संसद और राज्य विधानसभाओं में प्रतिनिधित्व के मामले में यह भारत की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी है और प्राथमिक सदस्यता के मामले में यह दुनिया का सबसे बड़ा दल है। भारतीय जनता पार्टी का मूल श्यामाप्रसाद मुखर्जी द्वारा 1951 में निर्मित भारतीय जनसंघ है।

दलों के टूटने के उदाहरण

भाजपा के 41वें स्थापना दिवस में वीडियो कांफ्रेंसिग के जरिए पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी बोले कि, ये 41 वर्ष इस बात के साक्षी हैं कि सेवा और समर्पण के साथ कोई पार्टी कैसे काम करती है और सामान्य कार्यकर्ता का तप और त्याग किसी भी दल को कहां से कहां पहुंचा सकता है। उन्होंने कहा कि हमारे देश में राजनीतिक स्वार्थ के लिए दलों के टूटने के अनेकों उदाहरण हैं लेकिन देशहित में लोकतंत्र के लिए दल के विलय की घटनाएं शायद ही कहीं मिलेंगी।

चुनाव जीतने की मशीन

PM  मोदी ने यह भी कहा कि जो लोग कहते हैं कि BJP चुनाव जीतने की मशीन है, वो एक प्रकार से भारत के लोकतंत्र की परिपक्वता को समझ नहीं पाते। वो भारत के नागरिकों की सूझबूझ का आकलन नहीं कर पाते। सच्चाई ये है कि बीजेपी चुनाव जीतने की मशीन नहीं, देश और देशवासियों का दिल जीतने वाला एक अनवरत-अविरल अभियान है।

भाजपा के कार्यकर्ता की विशेषता

पीएम ने कहा कि केरल (Kerala) और पश्चिम बंगाल (West Bengal) जैसे राज्यों में हमारे कार्यकर्ताओं को धमकियां दी जाती हैं, उन पर और उनके परिवार पर हमले होते हैं। देश के लिए जीना-मरना, एक विचारधारा को लेकर अड़े रहना, ये भाजपा के कार्यकर्ता की विशेषता है। वहीं वंशवाद और परिवारवाद का हश्र भी 21वीं सदी का भारत देख रहा है। आज गलत नरैटिव बनाए जाते हैं- कभी सीएए (CAA) को लेकर, कभी कृषि कानूनों को लेकर, कभी लेबर लॉ को लेकर, बीजेपी के प्रत्येक कार्यकर्ता को समझना होगा कि इसके पीछे सोची-समझी राजनीति है, ये एक बहुत बड़ा षड्यंत्र है। इसका मकसद है देश में राजनीतिक अस्थिरता पैदा करना है।

यह भी पढ़ेVrindavan के बांके बिहारी मंदिर से भगवान कृष्ण की मूर्ति गायब, ढूंढने वाले को मिलेगा ये इनाम

Related Articles

Back to top button