बड़ी खबर: जम्मू कश्मीर में भाजपा ने पीडीपी के साथ तोड़ा गठबंधन, गिर गई महबूबा सरकार

जम्मू-कश्मीर में सत्तारूढ़ भाजपा-पीडीपी गठबंधन सरकार अपना कार्यकाल पूरा करने से पहले ही धराशाई हो गई है। दरअसल, भाजपा ने पीडीपी से अपना गठबंधन तोड़ लिया है। भाजपा ने इस बाबत राज्यपाल को अपना पत्र सौंप दिया है। बताया जा रहा है कि शाम तक सूबे की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती भी राज्यपाल को अपना इस्तीफ़ा सौंप दे दिया है। इसके अलावा भाजपा के सभी मंत्रियों ने भी राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया है। भाजपा ने यह फैसला पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह के नेतृत्व में हुई बैठक के दौरान लिया।

इस बात की घोषणा करते हुए भाजपा महासचिव राम माधव ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि आज हमने जम्मू कश्मीर के पार्टी कार्यकर्ताओं और आला नेताओं के साथ एक बैठक की। इस बैठक में हमने सूबे की मौजूदा हालत की समीक्षा की। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के परामर्श से हमने यह निर्णय निकाला कि अब जम्मू कश्मीर में पीडीपी के साथ गठबंधन सरकार को साथ लेकर आगे बढ़ना मुश्किल है। इसलिए हमने इस गठबंधन सरकार को तोड़ने का निर्णय लिया।

बैठक से पहले भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष रवींद्र रैना ने बयान दिया है कि इस बैठक में 2019 के लोकसभा चुनाव पर चर्चा होगी। इसके अलावा संगठन पर भी बातचीत होगी। उन्होंने कहा कि अगले चुनाव में बीजेपी का सीएम बनेगा।

उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार स्थिति को नियंत्रित करने के लिए अभी तक राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की सलाह पर ही कदम उठाती रही है, चाहे वह रमजान के दौरान सीजफायर का मसला हो या अलगाववादी धड़ा हुर्रियत कांफ्रेंस के साथ वार्ता का मुद्दा हो। मगर कहा जा रहा है कि मोदी सरकार अब कोई भी फैसला बीजेपी मंत्रियों की सलाह के बिना नहीं ले सकती है।

आपको बता दें कि वर्ष 2014 में जम्मू कश्मीरकी 87 विधानसभा सीटों पर चुनाव हुए थे, जिसमें जम्मू एण्ड कश्मीर पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) 28 सीटों पर जीत का परचम लहराकर सबसे बड़ी पार्टी का खिताब अपने नाम किया था। इसके अलावा भाजपा के खाते में भी 25 सीटें आई थी। इसके अलावा कांग्रेस को 12 सीटें हासिल हुई थी। इसके बाद भाजपा और पीडीपी ने गठबंधन कर सरकार बनाई थी।

 

 

Related Articles