असम में सीट शेयरिंग का बीजेपी ने निकाला फॉर्मूला, तमिलनाडु में फंसा मामला

नई दिल्ली: देश के पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव 2021 का बिगुल बज चुका है। बंगाल, असम (Assam), केरल, तमिलनाडु और पुडुचेरी में होने वाले चुनाव को लेकर सभी दलों ने कमर कस ली है। पश्चिम बंगाल में बीजेपी अकेले मैदान में है तो वहीं असम और तमिलनाडु में उसने क्षेत्रीय दलों के सहारे चुनाव जीतने की रणनीति बनाई है। असम विधानसभा चुनाव (Assam Assembly Election) को लेकर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और सहयोगी दलों, असम गण परिषद (एजीपी) और यूनाइटेड पीपुल्स पार्टी लिबरल (यूपीपीएल) के बीच सीटों के बंटवारे को लेकर सहमति बन गई है। वहीं, तमिलनाडु में अभी तक AIADMK के साथ बीजेपी की सीट बंटवारे पर सहमति नहीं बन पाई है।

सीटों के बटवारे को लेकर बैठक

माना जा रहा है कि यूपीपीपल 8 सीटों पर चुनाव लड़ सकती है जबकि एजीपी 26 विधानसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार उतार सकती है। बाकी सीटों पर बीजेपी अपने उम्‍मीदवार उतारेगी। इससे पहले, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने सीटों के बटवारे को लेकर अपने घर पर अहम बैठक की, जिमे असम बीजेपी नेता और सरकार में मंत्री हेमंत विश्व शर्मा, असम गण परिषद और असम बीजेपी के वरिष्ठ नेता मौजूद थे।

ये भी पढ़ें : मैं विकास दुबे कानपुर वाला! धमकियों के बीच बनी फिल्म, ट्रेलर रिलीज

अमित शाह के आवास पर हुई बैठक

वहीं असम के मौजूदा मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल भी इस बैठक में मौजूद रहे। इन्ही सीटों को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के आवास पर बुधवार को अहम बैठक हुई थी। इस बैठक में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा, असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल, यूपीपीएल के प्रमुख प्रमोद बोरो, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष रंजीत दास, एजीपी के अध्यक्ष व राज्य सरकार के मंत्री अतुल बोरा, भाजपा नेता व मंत्री हेमंत विश्व सरमा भी मौजूद थे।

ये भी पढ़ें : शेयर बाजार का शाहरुख खान जिसने डेब्यू में कर दिया कमाल

Related Articles