राहुल गांधी ने मारी आंख तो भाजपा को मिल गया मौका…बता दिया ‘लोफ़र’

पणजी: संसद मे मानसून सत्र के तीसरे दिन अविश्वास प्रस्ताव पर बहस के दौरान राहुल गांधी के आंख मारने की घटना ने एक नया राजनीतिक तूल पकड़ लिया है। दरअसल, राहुल गांधी को लोफ़र शब्द से संबोधित करने वाले गोवा के भाजपा प्रवक्ता दत्ता प्रसाद नाइक विवाद के बाद भी अपने इस बयान पर कामय है और उन्होंने अपने बोल वापस लेने से साफ इंकार कर दिया है।

दरअसल, अभी बीते दिन दत्ता प्रसाद ने अपने एक बयान में राहुल गांधी द्वारा लोकसभा मे अविश्वास प्रस्ताव के दौरान आंख मारने की घटना उठाते हुए उन्हे लोफ़र की संज्ञा से संबोधित किया था। उनके इस कथन का कांग्रेस नेताओं ने जमकर विरोध किया था और उनसे माफी मांगने और शब्द वापस लेने की मांग की थी।

हालांकि दत्ता प्रसाद ने अभी भी अपने बोल पर डटकर खड़े नजर आ रहे हैं। उन्होंने अपने इस बोल को वापस लेने से इंकार भी कर दिया। अपने बयान में उन्होंने कहा कि राहुल गांधी ने सदन का अपमान किया है। ऐसी हरकतें कॉलेज के बाहर लड़की छेड़ने के लिए लोफ़र करते है। राहुल गांधी को ध्यान रखना चाहिए था कि वो सदन में बैठे हैं जहां कई कैमरे लगे हुए है।

दत्ता प्रसाद ने आगे कहा कि लेकिन उन्होंने खुद को फेमस करने के लिए प्रधानमंत्री जी को गले लगाया और आंख मारने जैसी हरकत की। राहुल गांधी इतनी बड़ी पार्टी के अध्यक्ष है उनको इस तरह की हरकतें शोभा नहीं देती हैं।

दत्ता प्रसाद का यह बयान ऐसे समय आया है जब गोवा मे भाजपा और कांग्रेस के बीच वाकयुद्ध छिड़ा हुआ है। हालांकि यह बयान उस समय आया जब कांग्रेस इकाई के प्रमुख गिरीश चोडंकर ने प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को गठबंधन की ‘कठपुतली’ बता था। लेकिन भाजपा प्रवक्ता बिना देर किए गिरीश चोडंकर के बयान का पलटवार किया और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को सोनिया गांधी की ‘कठपुतली’ कहने मे देरी नहीं की।

Related Articles