राष्ट्रपति चुनाव के लिए मुख्यमंत्री ने लगाई पाठशाला, विधायक बने स्टूडेंट्स

0

देहरादून। राष्ट्रपति चुनाव के लिए आज यानी 17 जुलाई को उत्तराखंड विधानसभा में विधायक वोट डालेंगे। ऐसे में राज्य की भाजपा सरकार कोई भी गलती नहीं करना चाहेगी। मार्च 2017 में हुए विधानसभा चुनाव के बाद भाजपा काफी उभरकर जनता के सामने आई है। भाजपा ने उत्तराखंड के साथ उत्तर प्रदेश, गोवा व मणिपुर में प्रचंड बहुमत प्राप्त करते हुए अपनी सरकार बनाई है। वहीं, उत्तराखंड में 70 सदस्यीय विधानसभा में 57 भाजपा विधायकों ने सत्ता काबिज कर सरकार बनाई है। ऐसे में भाजपा सरकार राष्ट्रपति चुनाव को लेकर कोई ढील नहीं बरतेगी।

राष्ट्रपति चुनाव

राष्ट्रपति चुनाव के लिए भाजपा बरत रही सतर्कता

राष्ट्रपति चुनाव के लिए सतर्कता बरतते हुए त्रिवेंद्र सरकार ने तय किया है कि जब भाजपा विधायक विधानसभा में वोट डालने जाएंगे तब उन्हें पांच-पांच की टीम में बात दिया जाएगा। मतलब की एक दल में पांच से ज्यादा विधायक नहीं होगी। साथ ही, विधायकों के हर एक दल को मदद करने के लिए एक समूह भी होगा। ऐसा इसलिए किया गया है ताकि किसी भी विधायक को किसी तरह की कोई दिक्कत न हो।

चुनाव अच्छे सेहो इसलिए शनिवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपने मंत्रियों व विधायकों के साथ बैठक भी की थी। जानकारी के अनुसार, बैठक में तय किया गया कि राष्ट्रपति चुनाव अच्छे से हो इसके लिए राज्य सरकार सुनिश्चित करेगी कि सोमवार को किसी तरह की कोई गड़बड़ न हो।

भाजपा सरकार काफी बेहतर स्तिथि में है लेकिन फिर भी पार्टी ने सावधानी के साथ रणनीति तैयार की है क्योंकि राष्ट्रपति चुनाव के लिए व्हिप जारी नहीं होता। ऐसे में क्रॉस वोटिंग की संभावना रहती है। दरअसल, भाजपा की कोशिश राष्ट्रपति के लिए एनडीए उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को सिर्फ जिताने तक सीमित नहीं है, बल्कि अच्छी-खासी संख्या में मत दिलाने की भी है। यही वजह है कि भाजपा हाईकमान के सख्त हिदायत के चलते प्रदेश में पार्टी संगठन और विधानमंडल दल इसे लेकर सावधानी से रणनीति को अंजाम देने में जुटा हुआ है।

यह भी पढ़ें : त्रिवेंद्र सरकार ने बढ़ाई उत्तराखंड विधानसभा की सुरक्षा, अब बिना प्रवेश…

आज राष्ट्रपति चुनाव के लिए देशभर में सभी विधायक वोट डालेंगे। इसके लिए भाजपा ने तो कमर कस ली है। वहीं UPA भी पूरी तैयारी से आया है। अब देखना ये है कि भारत का अगला राष्ट्रपति कौन होगा। वैसे उम्मीद तो यही जताई जा रही है कि NDA उम्मीदवार रामनाथ कोविंद ही राष्ट्रपति बनेंगे लेकिन लोकसभा स्पीकर रहीं मीरा कुमार भी किसी से कम नहीं हैं। अब तो सिर्फ नतीजे ही तय करेंगे कि देश का अगला राष्ट्रपति कौन होगा।

loading...
शेयर करें