BJP सांसद ने यमुना के तट पर दिल्ली सरकार के छठ पूजा प्रतिबंध के आदेश कि की अवहेलना

नई दिल्ली: भाजपा सांसद परवेश वर्मा ने सोमवार को यहां ITO के पास यमुना घाट पर अनुष्ठान किया और छठ पूजा की तैयारी शुरू की, जबकि दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा नदी के किनारे इसे करने पर प्रतिबंध लगा दिया गया था।

पश्चिम दिल्ली के सांसद, भाजपा कार्यकर्ताओं और ‘पूर्वांचली’ समुदाय के सदस्यों के साथ, एक ‘पूजा’ में शामिल हुए और सोमवार से शुरू होने वाले उत्सव की तैयारी शुरू कर दी। पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार के कुछ हिस्सों से संबंधित लोगों को ‘पूर्वांचली’ कहा जाता है।

कोरोना के कारण यमुना घाटों पर छठ पूजा पर है प्रतिबंध

दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA) ने 29 अक्टूबर को अपने आदेश में यमुना के किनारे को छोड़कर “निर्दिष्ट स्थलों” पर छठ समारोह की अनुमति दी थी। इसने प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों को अपने सभी कोविड से संबंधित आदेशों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है। यह पूछे जाने पर कि क्या भाजपा सांसद के खिलाफ कोई कार्रवाई की जाएगी, एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि वह छठ पूजा की तैयारी के तहत वहां गए थे।

अधिकारी ने कहा, “अगर कोई 10 नवंबर को मुख्य पूजा के दौरान DDMA के आदेशों का उल्लंघन करता पाया जाता है, तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी और उन पर मुकदमा चलाया जाएगा।”

वर्मा ने रविवार को यमुना के तट पर छठ पर लगे प्रतिबंध की अवहेलना करने की बात कही थी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को उन्हें रोकने की चुनौती दी थी। DDMA के आदेश में यह भी कहा गया है कि इसके दिशानिर्देशों का कोई भी उल्लंघन कानूनी प्रावधानों के अनुसार अभियोजन के लिए उत्तरदायी है, जिसमें भारतीय दंड संहिता और आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 शामिल हैं।

यह भी पढ़ें: ओवैसी ने की भारत-चीन संबंधों पर संसदीय बहस की मांग

Related Articles