मध्‍य प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले BJP को झटका, इस चुनाव में मिली करारी हार

भोपाल: मध्य प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव के पहले भाजपा को करारा झटका लगा है. पूरी तरह से ताकत झोकने वाली भाजपा पंचमढ़ी छावनी परिषद के चुनावों में बुरी तरह से हार गयी हैं. दरअसल कांग्रेस ने पंचमढ़ी छावनी परिषद के चुनावों में 7 सीटों में से 6 सीटों पर कब्जा जमा लिया है. सिर्फ एक सीट पर ही भाजपा समर्थित उम्मीदवार को जीत मिल सकी है.

23 साल बाद कांग्रेस को मिली जीत 

गौरतलब है कि पंचमढ़ी छावनी परिषद में 23 साल बाद कांग्रेस को जीत मिली है. कांग्रेस इस जीत को विधानसभा चुनावों के लिए शुभ संकेत मान रही है. इस जीत के बाद कांग्रेस पार्टी काफी उत्साहित नजर आ रही हैं. आपको बता दें कि छावनी परिषद में अध्यक्ष सेना के पदेन अधिकारी होते हैं. वर्तमान में कमांडेंट कर्मवीर इसके अध्यक्ष हैं.

79.27 प्रतिशत लोगो ने किया मतदान 

पचमढ़ी छावनी परिषद में दो साल बाद चुनाव हुए हैं. दो साल से सेना की तदर्थ समिति ही परिषद का संचालन कर रही थी. रविवार को दोपहर में छावनी परिषद के सभी 7 वार्ड में चुनाव हुआ. यहां कुल 4495 मतदाता है. मतदान का प्रतिशत 79.27 रहा. मतदान रविवार सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे तक हुआ, इसके बाद रात 8 बजे से मतगणना शुरू हुई.

भाजपा के हार की ये रहीं वजहें 

बता दें, पचमढ़ी में आम नागरिकों को मूलभूत सुविधाएं नहीं मिलना.कुछ साल पहले अतिक्रमण हटा था, इसमें भाजपा की भूमिका निष्पक्ष नहीं थी.23 साल से सत्ता में रहने के कारण नेताओं का बर्ताव ठीक नहीं व अंहकार से जनता चिढ़ गई. भाजपा के हार की ये प्रमुख वजह बताएं जा रहें है.

इन वजहों से जीती कांग्रेस 

गौरतलब है की, कांग्रेस लगातार जनता की आवाज को उठाते रही. भाजपा की गलतियां गिनाईं. चुनाव के दौरान जमीनी चुनाव प्रचार करते रहें. अतिक्रमण का मुद्दा उठाया. प्रत्याशियों का चयन सही किया और सुविधाएं देने का वादा किया.

Related Articles