भाजपा ने बिहार में बेईमानी और यूपी में धोखे से जीता चुनाव: अखिलेश यादव

उपचुनावों में सपा की हार के सवाल पर उन्होने पत्रकारों से कहा “हम हारे नहीं मेरी एक सीट थी वह मिल गयी सिर्फ वोटों का नुकसान हुआ है।

औरैया: समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भारतीय जनता पार्टी पर आरोप लगाया कि उसने बिहार विधानसभा चुनाव बेईमानी से और उत्तर प्रदेश में उपचुनाव धोखे से जीता है। अखिलेश यादव शुक्रवार को औरैया जिले के गांव कढोरे का पुरवा में सपा के दिवंगत पूर्व एमएलसी मुलायम सिंह यादव के निधन पर शोक संवेदना व्यक्त करने पहुंचे थे।

उपचुनावों में सपा की हार के सवाल पर उन्होने पत्रकारों से कहा “हम हारे नहीं मेरी एक सीट थी वह मिल गयी सिर्फ वोटों का नुकसान हुआ है। भाजपा को उपचुनावों में सरकारी मशीनरी ने जिताया है। अधिकारियों ने भाजपा के लिए वोट मांगकर उनको जिताया तब विपक्ष की कहां से जीत होगी। ”

‘भाजपा ने बेईमानी से जीता चुनाव’ 

अखिलेश यादव ने कहा कि बिहार में माहौल और वोट महागठबंधन के पक्ष में था, इसका सर्वे टीवी चैनलों में सबने देखा। भाजपा ने चुनाव के पहले चरण में हार स्वीकार भी कर ली थी लेकिन दूसरे व तीसरे चरण में सरकारी मशीनरी की मदद से उन्होने मतदान अपने पक्ष में करा लिया। भाजपा की यह हार है जीत नहीं, वोट तेजस्वी के पक्ष में था। 100 वोट से कोई हार नही होती यह प्रधानी का चुनाव नहीं है भाजपा ने बेईमानी से चुनाव जीता है।

जनता के समर्थन से आगामी चुनाव में होगी जीत 

उन्होंने कहा कि 2022 में पार्टी की रणनीति का फिलहाल वह खुलासा नहीं करेंगे। पार्टी आगामी विधानसभा चुनाव जनता के समर्थन व कार्यकर्ता की मेहनत की बल से जीतेगी। अखिलेश ने कहा कि पूर्व एमएलसी स्वर्गीय मुलायम सिंह यादव व उनका परिवार समाजवादी आंदोलन से 50 साल से जुड़ा रहा है। उन्होंने नेताजी के साथ संघर्ष किया व विषम परिस्थितियों में भी पार्टी और नेताजी का साथ दिया, उनके जाने से पार्टी को हानि हुई है।

पुरानी बातें याद करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि औरैया में प्लास्टिक सिटी का सपना उनकी ही देन है, जब सपा सरकार थी तब प्लास्टिक सिटी में कार्य हुआ लेकिन सरकार जाने के बाद काम ठप होकर वैसी ही स्थिति पड़ी है कोई कार्य नही हो रहा है।

इससे पूर्व उन्होंने एमएलसी के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की और वह करीब आधे घंटे रुके। पूर्व एमएलसी के नाती गौरव यादव, सौरभ यादव व परिजनों से मिले व ढाढ़स बंधाया। हर समय पूरी मदद करने का आश्वासन दिया। इसके बाद वह सीधे सैफई की ओर रवाना हो गए।

यह भी पढ़ें- गोबर से बने पांच हजार दीपक करेंगे राजभवन को रोशन 

Related Articles