ममता की चोट को लेकर बीजेपी का बड़ा एक्शन, सीएम की मुश्किलें बढ़ी

कोलकाता : भारतीय जनता पार्टी (BJP) का एक प्रतिनिधिमंडल रविवार को कोलकाता में मुख्य चुनाव अधिकारी (CEO) से मिलकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) की मेडिकल रिपोर्ट को सार्वजनिक करने की मांग की।

चुनाव अधिकारी से मुलाकात के बाद भाजपा सांसद अर्जुन सिंह (Arjun Singh) ने कहा कि ममता बनर्जी ने पहले इसे हमला कहा, फिर दुर्घटना कहीं और आज उन्होंने एक जुलूस निकाला। उनकी मेडिकल रिपोर्ट को सार्वजनिक किया जाना चाहिए क्योंकि हमें संदेह है कि डॉक्टरों को प्रभावित कर रिपोर्ट तैयार की गई है। भाजपा के प्रतिनिधिमंडल ने इसी मुद्दे पर सीईओ को एक पत्र भी सौंपा।

सहानुभूति हासिल करने के लिए Mamata Banerjee ने किया नाटक

उन्होंने कहा कि हमले का उपयोग अधिकतम संभव राजनीतिक लाभ को निकालने के लिए किया गया है और भारत के चुनाव आयोग ने भी अपनी रिपोर्ट में इस तरह के किसी भी हमले की संभावना से इनकार किया है। भाजपा की राज्य इकाई के हवाले से कहा गया है कि सहानुभूति हासिल करने और राज्य के विभिन्न हिस्सों में हुई हिंसा हो छिपाने करे लिए यह राजनीति की गई है।

वहीं पत्र में यह भी कहा गया है कि हमले को लेकर बीजेपी पर टीएमसी (TMC) का आरोप आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है। उन्होंने कहा कि यह आवश्यक है कि सच्चाई को जनता के सामने लाया जाए ताकि मंचन की घटनाएं जनता को धोखा देने और अपने मतदान विकल्पों में हेरफेर करने के लिए न दोहराएं। सिंह की यह टिप्पणी रविवार को कोलकाता के हाजरा में बनर्जी के रोड शो को लेकर आई है।

इस बीच, चुनाव आयोग ने रविवार को कहा कि नंदीग्राम (Nandigram) में पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) को लगी चोट राज्य के पर्यवेक्षकों और मुख्य सचिव के निष्कर्षों के अनुसार हमले का परिणाम नहीं है। पोल बॉडी के आधिकारिक सूत्र ने कहा कि बनर्जी पर किए गए हमले का कोई सबूत नहीं है।

12 मार्च को अस्पताल से सीएम की छुट्टी

बता दें कि 10 मार्च को राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आरोप लगाया था कि चुनाव प्रचार के दौरान उन्हें कुछ अज्ञात लोगों द्वारा धक्का दिया गया था। जिसके बाद उन्हें नंदीग्राम से सड़क मार्ग से कोलकाता के एसएसकेएम अस्पताल ले जाया गया। बनर्जी ने अपनी शुरुआती चिकित्सा जांच की रिपोर्ट के अनुसार, अपने बाएं पैर और टखने के साथ-साथ कंधे, अग्र-भुजा और गर्दन पर भी गंभीर चोटें बताई थी। हालांकि मुख्यमंत्री को 12 मार्च को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी।

इसे भी पढ़े: पश्चिम बंगाल चुनाव के लिए कांग्रेस ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची

पश्चिम बंगाल में इस बार टीएमसी, कांग्रेस-वाम गठबंधन और भाजपा के साथ त्रिकोणीय मुकाबला होने की संभावना है। पश्चिम बंगाल विधानसभा के 294 सदस्यीय चुनाव 27 मार्च से शुरू हो रहें है और यह आठ चरणों में संपन्न होंगे, 29 अप्रैल को अंतिम मतदान होगा। मतों की गिनती 2 मई को होगी।

Related Articles