बीजेपी का दावा, महापुरुषों के सपनों का भारत बनाने के लिए तय किए 75 लक्ष्य

नई दिल्ली: बीजेपी ने सोमवार को Lok Sabha Election 2019 के लिए अपना Manifesto Sankalp Patra जारी कर दिया है। इस संकल्प पत्र में भाजपा ने गांव, गरीब, किसान और व्यापारियों के अलावा महिलाओं और युवाओं को भी फोकस में रखा है। साथ ही कश्मीर में धारा 379, 35ए व आतंकवाद से निपटने और राम मंदिर को लेकर आगे बढ़ने की बात कही गई है। भाजपा का घोषणा पत्र जारी होने के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने इसे बनाने वाली टीम को बधाई दी।

इसके बाद मोदी ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि हमारा संकल्प पत्र राष्ट्र सुरक्षा पत्र, राष्ट्र सुशासन पत्र भी है। राजनाथ जी के नेतृत्व में हमारे अध्यक्ष जी ने जो कमेटी बनाई थी। उसने पिछले 2-3 महीने लगातार मेहनत की और एक प्रकार से जन के मन की बात और उनकी आशा, अपेक्षा और आकांक्षाओं को एक डॉक्यूमेंट के रूप में ढाला है। इसके लिए मैं इस पूरी टीम को बधाई देता हूं।

मोदी आगे बोले, राष्ट्रवाद हमारी प्रेरणा है, अन्त्योदय हमारा दर्शन है और सुशासन हमारा मंत्र है। 2022 जब आजादी के 75 साल होंगे तब देश के उन महापुरुषों जिन्होंने आजादी की जंग लड़ी थी, उनके सपनों का भारत बनाने के लिए हमने 75 लक्ष्य तय किये हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि, हमारे समाज में विविधताएं हैं। भाषाएं, जीवन स्तर, शिक्षा आदि की विविधता है। इसलिए विकास को मल्टीलेयर बनाने के लिए हमने अपनी योजना को संकल्प पत्र में समाहित किया है। हम देश को समृद्ध बनाने के लिए, सामान्य मानवी के सशक्तिकरण को लेकर जन भागीदारी को बढ़ाते हुए, लोकतांत्रिक मूल्यों को बढ़ावा देते हुए, हम One Mission, One Direction को लेकर आगे बढ़ेंगे।

मोदी ने देश में पानी की समस्या को लेकर कहा कि, आज देश के कई प्रदेशों में पानी की समस्या के समाधान को गंभीरता से सोचने की जरूरत है। इसलिए हम एक अलग ‘जल शक्ति मंत्रालय’ बनाएंगे।

मोदी अपने 5 साल का कार्यकाल पर बोले कि, 2014-19 हमारे सारे कामों को देखा जाए तो हमारे सभी कामों की रचना के मूल में सामान्य मानवीय की आवश्यकताओं को बल दिया गया है। अपने इस कार्यकाल में हमने सामान्य मानवीय की आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर शासन चलाया। अब उनकी आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए हम क्या कर सकते हैं, वो संकल्प पत्र में लेकर आए हैं।

स्वच्छता पर मोदी ने कहा कि देश का विकास करने के लिए विकास को जन आंदोलन बनाने की जरुरत है और इसका सफल प्रयोग ‘स्वच्छता’ है। आज स्वच्छता एक जन आंदोलन बन गई है।

गरीब और गरीबी को लेकर प्रधानमंत्री ने कहा कि दिल्ली में एयर कंडीशन मैं बैठे लोग गरीबी को हरा नहीं सकते। गरीब ही गरीबी को परास्त कर सकता है। ये हमारा मंत्र है और इसलिए गरीबों के सशक्तिकरण को हमने बल दिया है।

Related Articles