सपा के गढ़ इटावा में बना भाजपा का हाईटेक आफिस, सभी अत्याधुनिक सुविधाएं मौजूद

सपा समेत अन्य दलों ने भी भाजपा की हाईटेक प्रणाली का मुकाबला जनबल के जरिये कर चुनौती देने की ठानी है।

इटावा: समाजवादी पार्टी का गढ़ कहे जाने वाले उत्तर प्रदेश के इटावा में भारतीय जनता पार्टी अपना हाईटेक आफिस  स्थापित कर आमजनता में अपनी पहुंच बनाने की तैयारी में जुट गई है।

भाजपा 2022 के विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सपा के मजबूत गढ़ इटावा तथा इसके आसपास के जिलों में अपनी पकड़ को मजबूत करना चाहती है। भाजपा ने यहां एक हाईटेक आफिस की स्थापना की है। इसके विपरीत सपा समेत अन्य दलों ने भी भाजपा की हाईटेक प्रणाली का मुकाबला जनबल के जरिये कर चुनौती देने की ठानी है।

56 हाईटेक कार्यालय शुरू किये

भाजपा ने हाल के दिनों में उत्तर प्रदेश में 56 हाईटेक कार्यालय शुरू किये है उनमें से एक इटावा का भी आफिस शामिल है। करीब 5000 वर्ग फुट मे बन इस कार्यालय मे कार्यकत्र्ताओ की मीटिंग आदि के लिए सभी बंदोबस्त किये गये है। तीन तली इस कार्यालय के प्रथम तल में अध्यक्ष के अलावा डाॅ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी पुस्तकालय स्टोर रूम, अटल संवाद कक्ष और पुस्कालय कक्ष है जबकि दूसरे तल पर पं0दीनदयाल उपाध्याय सभागार और तीसरे तल पर अतिविशिष्ट अतिथि कक्ष, रसोई, केयर टेकर कक्ष और अतिथि कक्ष स्थापित है। सिर्फ इतना ही नही यहाॅ पर एक पुस्तकालय भी है जहाॅ पर करीब दस हजार के आसपास भाजपा विचाराधारा से जुडी हुई पुस्तकें भी है जिनका फायदा यहाॅ के कार्यकर्ताओं को मिल सकता है।

तकनीकी तौर पर बहुत मजबूत

भाजपा जिला अध्यक्ष अजय धाकरे ने बुधवार को यहां बताया कि इटावा समेत प्रदेश के 56 जिला कार्यालयों को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से एक साथ कनेक्ट कर दिया गया है । पार्टी कार्यालय के हाईटेक होने से प्रदेश अध्यक्ष से लेकर के प्रदेश के वरिष्ठ सभी पदाधिकारी जिले के किसी भी कार्यकर्ता से सीधे तौर पर बात कर सकते हैं। कार्यालय को तकनीकी तौर पर बहुत मजबूत किया गया है। यहां इंटरनेट की व्यवस्था की ही गई है। वीडियो कैमरे भी लगाए गए हैं। पदाधिकारियों के लिए कुछ अलग बनाया गया है। संगठन का कोई वरिष्ठ पदाधिकारी यदि आता है तो उसके रूकने के लिए अलग से गेस्ट रूम की व्यवस्था की गई है।

उन्होंने बताया कि पार्टी कार्यालय में मीडिया से बात करने के लिए अलग से प्रेस कान्फ्रेंस रूम बनाया गया है। यही सब सुविधाएं कार्यालय में मौजूद है। प्रेस कांफ्रेंस हाल में 40 से लेकर 50 तक लोग बड़े आराम से बैठ सकते है जब कि पार्टी की बैठक के लिए तीन सौ लोग बैठ सकते है। हर तरह की सुविधा युक्त पार्टी कार्यालय प्राकृतिक तौर पर भी सुसज्जित किया गया है क्योंकि यहां पर हरे भरे बड़े स्तर पर पेड़ों को भी लगाया गया है।

ये भी पढ़ें : केजरीवाल सरकार का फैसला, दिल्ली में बैन होंगे पटाखे

बीजेपी विचारधारा से जुड़ी साढे आठ हजार किताबों की लाइब्रेरी

पूर्व जिलाध्यक्ष शिव महेश दुबे ने बताया कार्यालय में सभी अत्याधुनिक सुविधाएं मुहैया कराई गई हैं लेकिन सबसे खास बात यह है कि यहां पर एक लाइब्रेरी की भी स्थापना है हुई है जिसमें करीब साढे आठ हजार ऐसी पुस्तके हैं जो भारतीय जनता पार्टी विचारधारा से जुड़े हुए महानुभाव से संदर्भित है। इस लाइब्रेरी की पुस्तकों के जरिए भाजपा का कोई भी कार्यकर्ता पार्टी विचारधारा के किसी भी महानुभाव के बारे में यहां अध्ययन करके अपना ज्ञान अर्जुन कर सकता है। यह पुस्तके दुर्लभ पुस्तके की श्रेणी में सुमार है।

देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस का कार्यालय बेसक नगर पालिका भवन के उपर स्थापति है लेकिन वहाॅ पर ऐसी व्यस्थाए नही है जैसी भाजपा कार्यालय मे उपलब्ध है । इसका असर निश्चित है कि काग्रेंस के प्रभाव पर पडेगा ही।

ये है इटावा का राजनितिक परिदृश्य

इटावा संसदीय सीट पर 2014 में भाजपा के अशोक दोहरे ने जीत हासिल की थी उसके बाद 2019 मे भाजपा के प्रो.रामशंकर कठेरिया ने जीत अर्जित की है इसी तरह से 2017 के चुनाव मे इटावा सदर सीट पर भाजपा की श्रीमती सरिता भदौरिया और भर्थना सुरक्षित सीट पर भाजपा की ही श्रीमती सावित्री कठेरिया को जीत मिली है जब कि 2012 के विधानसभा चुनाव मे इटावा,भर्थना और जसंवतनगर सपा के कब्जे मे थी अब केवल जसवंतनगर सीट से शिवपाल सिंह यादव ही एमएलए है। वे सपा के टिकट पर जीते हो लेकिन अब उनकी राह अलग हो चुकी है।

ये भी पढ़ें : IPL 2020: जानें दिल्ली कैपिटल्स के क्वालीफाई करने पर क्या बोले कप्तान और कोच

Related Articles

Back to top button