भाजपा (BJP) की खरीदी हुई सीट भागलपुर से प्रत्याशी रोहित पांडेय मेरे कारण हारा: गोपाल मंडल

गोपालपुर से पार्टी के विधायक गोपाल मंडल के विवादित बयान पर संज्ञान लेते हुए उनसे स्पष्टीकरण की मांग की है।

पटना: बिहार (Bihar) में सत्तारूढ़ जनता दल यूनाइटेड (JDU) के शीर्ष नेतृत्व ने भागलपुर जिले में गोपालपुर से पार्टी के विधायक गोपाल मंडल के विवादित बयान पर संज्ञान लेते हुए उनसे स्पष्टीकरण की मांग की है।

विवादित बयानों को लेकर हमेशा चर्चा में रहने वाले जदयू विधायक (MLA) मंडल ने इस बार के विधानसभा चुनाव में भागलपुर से भारतीय जनता पार्टी (BJP) उम्मीदवार रोहित पांडेय की हार का कारण खुद को बताकर एक बार फिर विवाद में घिर गये हैं।

इस पर जदयू के प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने मंगलवार को यहां बताया कि पार्टी आला कमान ने विधायक (MLA) मंडल के इस बयान पर संज्ञान लिया है। उन्होंने कहा कि उन्हें अपने बयान पर स्पष्टीकरण देने को कहा गया है। इसके बाद ही पार्टी इस संबंध में किसी निर्णय पर पहुंचेगी।

भाजपा की खरीदी हुई भागलपुर सीट

भाजपा नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के घटक जदयू के विधायक मंडल का एक वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें एक सभा में मंच से वह कह रहे हैं, “भाजपा की खरीदी हुई भागलपुर सीट से प्रत्याशी रोहित पांडेय को घमंड हो गया था। विधायक और सांसद बनने के लिए दबंग होना चाहिए लेकिन कुछ नहीं था, मुंह में बोली नहीं थी। उन्होंने प्रधनमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) की एक चुनावी सभा में न तो मुझसे बात की और न ही मुझे नमस्कार किया। इसलिए, मैंने उनका प्रचार नहीं किया, जिसकी वजह से उनकी हार हुई।”

मंडल ने कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान साहू परबत्ता उच्च विद्यालय की एक चुनावी सभा में मैंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Chief Minister Nitish Kumar) से वादा किया था कि सभी सात विधानसभा सीट पर राजग प्रत्याशी की जीत होगी और यह मैंने कर दिखाया। हम केवल दो सीट नाथनगर और भागलपुर हारे। नाथनगर सीट पार्टी आलाकमान की गलतियों की वजह से वहीं भागलपुर सीट रोहित पांडेय के घमंड के कारण। मैंने पीरपैंती में ललन पासवान, कहलगांव में पवन यादव, सुल्तानगंज में प्रो. ललित और बिहपुर से राजग उम्मीदवार में इंजीनियर शैलेंद्र के लिए प्रचार किया इसलिए वे सभी जीत गए।

गौरतलब है कि अभी हाल ही में विधायक मंडल का एक और वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें उन्हें ऑर्केस्ट्रा में नर्तकियों के साथ डांस करते हुए देखा जा सकता है। इससे पहले भी वह विवादित बयान देकर जदयू नेतृत्व के मुश्किलें खड़ी करते रहे हैं।

यह भी पढ़े: छत्तीसगढ़ को उत्तरप्रदेश से जोड़ने वाली तीन ट्रेनों को चलाने की मंजूरी

Related Articles

Back to top button